अनु की मस्ती मेरे स...
 

अनु की मस्ती मेरे साथ  

Page 1 / 2
  RSS
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

कभी कभी जिंदगी मे ऐसा वाक़या आ जाता है का जीने का मतलब ही
बदल जाता है. मैं एक 45 साल का विधुर आदमी जो मुंबई जैसी जगह
मे रह कर भी प्रूफ रीडर जैसा निक्रिस्ट काम करता हो उसके जीवन
मे कोई चमत्कार की कल्पना करना भी व्यर्थ है. मगर होनी को कौन
टाल सकता हैï

मैं राघवेंद्रा दीक्षित 45 साल का मीडियम कद काठी का आदमी हूँ. शक्ल
सूरत वैसे कोई खास नही है. मैं दादर के एक पुरानी जर्जर
बिल्डिंग मे पहली मंज़िल पर रहता हूँ. जब मैं छ्होटा था तब से ही
इस मकान मे रहता आया हूँ. दो कमरे के इस मकान को आज की तारीख मे
और आज की सॅलरी मे अफोर्ड कर पाना मेरे बस का ही नही था. लेकिन
इस पर मेरे पुरखों का हक़ था और मैं बिना कोई किराया दिए उसमे किसी
मकान मलिक की तरह रहता हूँ. यहीं पर जब मेरे 25 बसंत गुज़रे
तो माता पिता ने एक सीधी साधी लड़की से मेरा विवाह कर दिया. 5 साल
तक हुमारी कोई संतान नही हुई. रजनी उदास रहने लगी थी. उसने हर
तरह के पूजा पाठ. हर तरह के डॉक्टर को दिखाया. आख़िर उसकी
उल्टियाँ शुरू हो गयी. वो बहुत खुश हुई. लेकिन ये खुशी मेरी
जिंदगी मे अंधेरा लेकर आई. कभी ना मिटने वाला अंधेरा. जब
बच्चा 8 महीने का था, एक दिन सीढ़ी उतरते समय रजनी का पैर
फिसला और बस सब ख़त्म. जच्चा बच्चा दोनो मुझे इस दुनिया मे
एकद्ूम अकेला छ्चोड़ कर चले गये.

बुजुर्ग माता पिता का साथ भी जल्दी छ्छूट गया. अब मैं उस मकान मे
अकेला ही रहता हूँ. उस दिन प्रेस से लौट ते हुए रात के साढ़े बारह
बज रहे थे. पता नही मन उस दिन क्यों इतना उचट रहा था.. शाम को
काफ़ी बरसात हो चुकी थी इसलिए लोगबाग अपने घरों मे घुसे बैठे
थे.

मेरा अकेले मे मन नही लग रहा था. रात के बारह बज रहे थे. मैं
घर जाने की जगह सी बीच पर टहलने लगा. सामने पार्क था. जिसमे
सुबह छह बजे से जोड़े आलिंगन मे बँधे दिखने शुरू हो जाते हैं.
लेकिन अब एक दम वीरान पड़ा था. मैं कुच्छ देर रेत पर बैठ कर
समुंद्र की तरंगों को अपने कानो मे क़ैद करने लगा. हल्की फुहार वापस
शुरू हो गयी. मैं उठ कर वापस घर की ओर लौटने लगा. पता नही
किस उद्देश्य से मैं पार्क के अंदर चला गया. पार्क की लाइट्स भी
खराब हो रही थी इसलिए अंधेरा था. अचानक मुझे किसी झाड़ी के
पीछे कोई हलचल दिखी. मैं मुस्कुरा दिया "होंगी लैला मजनू की कोई
जोड़ी. अंधेरे का लाभ उठा कर संभोग मे लिप्त होंगे." मैने अपने
हाथ मे पकड़े टॉर्च की ओर देखा फिर बिना कोई आवाज़ किए घूम कर
झाड़ियों की दूसरी तरफ गया. मुझे घास पर कोई मानव आकृति उकड़ू
अवस्था मे अपने को झाड़ी के पीछे छिपाये हुई दिखी.

"ओह्ह" अचानक उस से एके मुँह से आवाज़ निकली. मैं चौंक गया, वो कोई
लड़की थी. मैने उसकी तरफ टॉर्च करके उसे ऑन किया. जैसे ही रोशनी
हुई वो अपने आप मे सिमट गयी. सामने जो कुच्छ था उसे देख कर मेरा
मुँह खुला का खुला रह गया.

एक कोई 30 साल की महिला बिल्कुल नग्न हालत मे अपने बदन को सिकोड
कर अपनी नग्नता को मेरी आँखों से छिपाने का भरसक प्रयत्न कर
रही थी.

"कौन??? कौन है उधरï ??" मैने आवाज़ लगाई.

"छ्चोड़ दो मुझे छ्चोड़ दो." कह कर वो अपने चेहरे को छिपा कर रोने
लगी. उसका शरीर के कुच्छ हिस्से मे कीचड़ लगा था. वो इस दुनिया
के बाहर की कोई जीव लग रही थी. मैने उसे खींच कर उठाया.

"कौन है तू? क्या कर रही है अंधेरे मे? बुलाउ पोलीस को?" एक
साथ मेरे मुँह से कई सवाल निकल पड़े. जवाब मे वो मेरी छाती से
लग कर सुबकने लगी.

"मर जाने दो मुझे. नही जीना मुझेï ." वो मचलती हुई बोल रही थी.

"अरे बताएगी भी कि क्या हुआ या ऐसे ही रोती रहेगीï " मैने उसके
चेहरे को उठाया.

"साले चार हरम्जादे थेï . साले कुत्ते कई दीनो से हमारे घर के
चारों ओर सूंघते फिर रहे थेï . आज मौका मिल गया सालों को. मुझे
अकेली देख कर फुसला कर यहा पार्क मे ले आए औरï और" कह कर वो
रोने लगी.

मैं समझ गया कि उसके साथ रेप हुआ है. और जिस तरह वो
बहुवचन का प्रयोग कर रही थी गॅंग-रेप की शिकार थी वो. पता
नही शादीशुदा थी या कोई कंवारी? इसके घरवाले शायद ढूँढते
फिर रहे होंगे? उसका गीला कीचड़ से साना नग्न बदन मेरी बाहों मे
था. मैं उसे बाहों मे लेकर सोच रहा था कि इस समय क्या करना उचित
होगा..

"तुम्हारा नाम क्या है?" मैने जानकारी वश उससे पूचछा.

"तुमसे मतलब साले छ्चोड़ मुझे मैं मर जाना चाहती हूँ."

मेरा दिमाग़ खराब हो गया. मैं ज़ोर से उस पर चीखा.

"अब एक बार भी अगर तूने मुझसे कोई बे सिर पैर की बात की तो
उठा कर फेंक दूँगा उन केटीली झाड़ियों मे. तब से मैं तुझे
समझाने की कोशिश कर रहा हूँ और तू है की सिर पर चढ़े जा
रही है. तूने मुझे समझ क्या रखा है? कान खोल कर सुनले अगर
मुझे तुझसे कोई फ़ायदा उठना होता तो मैं बातें करने मे अपना समय
बर्बाद नही करता. अपनी हालत देख. इस तरह की कोई नंगी लड़की किसी
और को ऐसे अंधेरे मे मिल जाए तो सबसे पहला काम ज़मीन पर पटक
कर तुझे चोदने का करता."

मेरी झिरक सुन कर उसका आवेग कुच्छ कम हुआ. लेकिन फिर भी वो मेरी
बाहों मे सूबक रही थी. उसने धीरे धीरे अपना सिर मेरे कंधे पर
रख दिया. और सुबकने लगी.

वो चार थे. मुझे अकेली सड़क से गुज़रता देख मेरा मुँह बंद
करके एक मारुति मे यहाँ सून सान देख कर ले आए "

"ठीक है ठीक है अब रोना धोना छ्चोड़. तेरे कपड़े कहाँ हैं?"

"यहीं कहीं फेंक दिया होगा." उसने इधर उधर तलाशने लगी. इतनी
देर बाद उसे याद आया कि वो किसी अजनबी की बाँहों मे बिल्कुल नंगी
खड़ी है. उसने फॉरन अपने बदन को सिकोड लिया और वहीं ज़मीन पर
अपने बदन को छिपाते हुए बैठ गयी. मैं टॉर्च की रोशनी मे
चारों ओर ढूँढने लगा. काफ़ी देर तक ढूँढने के बाद सिर्फ़ एक फटी
हुई ब्रा मिली. मैने उसके पास आकर उसे उस फटी हुई ब्रा को दिखा कर कहा

Quote
Posted : 13/01/2012 4:13 pm
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

ReplyQuote
Posted : 13/01/2012 4:13 pm
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

"बस यही मिला. और कुच्छ नही मिला.. शायद तेरे कपड़े भी वो साथ ले
गये."

"साले मादार चोद मुझे पूरे शहर मे नंगी करके घुमाना चाहता था.
साले कुत्ते."

" चल अब गलियाँ देना बंद कर. अब ये बता तुघर कैसे जाएगी?
यहाँ पड़ी रही तो बरसात मे भीग कर ठंड से मर जाएगी. नही तो
फिर किसी की नज़र पड़ गयी तुझ पर तो रात भर तो तुझसे अपनी
हवस मिटाएगा और सुबह किसी चाकले मे ले जाकर बेच आएगा."

" मुझे नही जाना घर ..मुझे घर नही जाना"

" क्यों?"

" वो साले घर पर ताक लगाए बैठे होंगे. मुझे वापस अकेली देख
कर वापस चढ़ पड़ेंगे मेरे ऊपर. साले कुत्ते" कह कर उसने नफ़रत
से थूक दिया.

" अच्च्छा चल तू एक काम कर." मैने अपने शर्ट को उतार दिया. सफेद
रंग का शर्ट बरसात मे भीग कर पूरी तरह पार दर्सि हो गया था.
अंदर की बनियान भी उतार दी..

"ले इन्हे पहन ले. वैसे ये ज़्यादा कुच्छ छिपा नही पाएँगे लेकिन फिर
भी चलेगा."

उसने मेरे कपड़ों को मेरे हाथ से लेकर पहन लिया. मैं सिर्फ़ पॅंट
पहना हुआ था. उसे उतार कर देने की मेरी हिम्मत नही हुई.

"चल पोलीस स्टेशन." मैने उसे कहा "रपट भी लिखानी पड़ेगी

"नहीं" वो ज़ोर से चीखी "नहीं जाना मुझे कहीं. मैं नही जाउन्गि
पोलीस स्टेशन. साले रात भर मुझे चोदेन्गे और सुबह वहाँ से
भगा देंगे. किसी डाकू से ज़्यादा डर तो इन पोलीस वालों से लगता है."

"लेकिन रपट तो लिखाना ही पड़ेगा ना"

"क्यों? क्या होगा रपट लिखवा कर. लौटा देंगे वो मेरी लूटी हुई इज़्ज़त.
साले करेंगे तो कुच्छ नही. हां खोद खोद कर ज़रूर पूछेन्गे. क्या
किया था कैसे किया था. पहले चोदा था या पहले तेरी छातियो को
मसला था."

" अब तो ये बता कि तू जाएगी कहाँ." मैने पूचछा " देख मेरे घर
मे मैं अकेला ही रहता हूँ. पास ही घर है अगर तुझे कोई दिक्कत ना
हो तो रात वहाँ बिता ले सुबह होते ही अपने घर चली जाना."

कुच्छ देर तक वो चुप रही फिर उसने धीरे से कहा "ठीक है"

हम दोनो अर्ध नग्न अवस्था मे लोगों से छिपते छिपाते घर की ओर
बढ़े. रात के साढ़े बारह बज रहे थे और ऊपर से बारिश इसलिए
रास्ता पूरा सुनसान पड़ा था. उसने मेरे हाथ को पकड़ रखा था. किसी
लड़की के स्पर्श से मेरे बदन मे सिहरन सी हो रही थी. मैने चलते
चलते पूचछा

" क्या मैं अब तुम्हारा नाम जान सकता हूँ?"

अनुराधा नाम है मेरा."

" अनु तुम शादी शुदा हो या अभी कुँवारी ही हो?"

"शादी तो हुई थी लेकिन मेरा पति मुझे छोड़ कर साल भर हुए
पता नही कहाँ चला गया. मैं कुच्छ दूर एक खोली लेकर रहती हूँ.
पास ही ट्विंकल स्टार स्कूल मे पढ़ाती हूँ. उसी से मेरा गुज़रा चल
जाता है."

मैं चल ते हुए उसकी बातें सुनता जा रहा था. उसकी आवाज़ बहुत
मीठी थी लग रहा था बस वो बोलती जाए. चाहे कुच्छ भी बोले लेकिन
बोलती जाए. मैने अपने बाहों से उसको सहारा दे रखा था. उसकी चाल
मे लड़खड़ाहट थी जो की गॅंग रेप के कारण दुख़्ते बदन के कारण
थी. उसके बदन मे जगह जगह नोचे और काटे जाने के निशान हो रहे
थे. कुछ जगह से तो हल्का हल्का खून भी रिस रहा था. बड़ी ही
बेरहमी से कुचला दिया था बदमाशों ने इस फूल से बदन को.

ReplyQuote
Posted : 13/01/2012 4:13 pm
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

" हमारे मोहल्ले मे टिल्लू दादा हफ़्ता वसूली का काम करता है. उसकी नज़र बहुत दीनो से मेरे ऊपर थी. लेकिन मैं उसे किसी भी तरह का मौका नही देती थी. आज क्या है स्कूल के एक टीचर का आक्सिडेंट हो गया था. हम सब उसे देखने हॉस्पिटल चले गये थे. वापसी मे बरसात शुरू हो जाने के कारण देर हो गयी. मैं लोकल ट्रेन से दादर रेलवे स्टेशन पर उतर कर पैदल घर जा रही थी. सड़कों पर लोग कम हो गये थे. मेरे घर के पास अंधेरे मे मुझे वो साला टिल्लू मिल गया. उसने मेरे गले पर चाकू रख कर वॅन मे बिठा कर यहा ले आया."

हम घर पर पहुँच गये थे. दोनो बारिश मे पूरी तरह भीग चुके थे. हमारे बदन और कपड़ों से पानी टपक रहा था. मैने ताला खोल कर लाइट जलाई. उसकी तरफ घूमते ही मैं अवाक रह गया था. क्या खूबसूरत महिला थी. रंग गेहुआ था लेकिन नाक नक्श तो बस कयामत थे. बदन ऐसा कसा हुआ की उफफफ्फ़ .मेरी तो साँस ही रुक गयी. पूरा बदन किसी होनहार कारीगर द्वारा गढ़ा हुआ लगता था. बदन पर सिर्फ़ मेरी बनियान और शर्ट थी जिसका होना या ना होना बराबर था. उसके बदन का एक एक रेशा सॉफ नज़र आ रहा था. मैं एक तक उसके बदन को निहारता रह गया. काफ़ी सालों बाद किसी महिला को इस अवस्था मे देख रहा था. मेरी बीवी रजनी गोरी तो थी लेकिन काफ़ी दुबली थी. इसका बदन भरा हुआ था. चूचिया बड़ी बड़ी थी 38 के आसपास की साइज़ होगी. निपल्स के चारों ओर काले काले घेर काफ़ी फैले हुए थे. निपल्स भी काफ़ी लंबे थे. उसके बदन मे कई जगह कीचड़ लगा हुया था लेकिन उस हालत मे भी वो किसी कीचड़ मे खिले फूल की तरह लग रही थी.

उसकी नज़रें मेरी नज़रों से मिली और मुझे अपने बदन को इतनी गहरी नज़रों से घूरता पाकर वो शर्मा गयी.

"अंदर चलें" उसने मुझे ( www.indiansexstories.mobi ) मेरी अवस्था से बाहर लाते हुए कहा.

"हाँï हाँï अंदर आओ." मैं बोखला गया. मेरी चोरी पकड़ी गयी थी. मैं अपनी हड़बड़ाहट छिपाते हुए बोला, " देखो छ्होटा सा मकान है. पुरखों ने बनवाया था. दो कमरे हैं. यहाँ मैं अकेला ही रहता हूँ इसलिए समान इधर उधर फैला हुआ है."

"क्यों शादी नही की?"

"की थी लेकिन मुझसे ज़्यादा वो भगवान को प्यारी थी इसलिए उसे जल्दी वापस बुला लिया"

"सॉरी! मैने आपको कष्ट दिया."

"नही नही ऐसा कुच्छ नही." मैने कहा " ऐसा करो तुम जल्दी से नहा लो. इस तरह रहोगी तो बीमार पड़ जाओगी."

"हाँ अपने सही कहा. बातरूम किधर है?" उसने झट से मेरी बात का समर्थन किया. शायद वो खुद एक गैर मर्द के सामने से अपना नग्न बदन छिपाना चाहती थी.

मैने उसे बाथरूम दिखा दिया. वो अंदर चली गयी. मैने उसे रुकने को कहा. मैं स्टोव पर पानी गर्म करके ले आया. इसे बाल्टी के पानी मे मिक्स कर लो. गुनगुने पानी मे शरीर को राहत पहुँचेगी. कपड़े वहीं छ्चोड़ देना. मैं धुले कपड़े ला देता हूँ.

उसके लिए प्रॉपर कपड़े तलाश करने मे दिक्कत हुई. अब मेरे घर मे मर्दों के कपड़े ही थे. मैने उनमे से ही एक शर्ट और एक लूँगी निकाला. शर्ट थोड़े हल्के कलर का था इसलिए अपनी एक अच्छि बनियान भी निकाल कर उसे दी. मैं उसके लिए चाइ बनाने लगा. कुच्छ देर बाद बाथरूम का दरवाजा खुलने की आवाज़ आई. मैं अपने काम मे बिज़ी रहा. बीच बीच मे उसकी चूड़ियों की ख़ान खानाहट बता रही थी कि वो कुच्छ कर रही है. शायद बॉल संवार रही होगी. मैं अपने धुन मे मस्त किचन मे ही बिज़ी रहा. अचानक पीछे से आवाज़ आई,

" अब कैसी लग रही हूँ मैं?"

"एम्म्म" मैं उसके चारों ओर एक चक्कर लगा कर बोला, "काजल लगा लो कहीं मेरी ही नज़र ना लग जाए."

"धात" वो एक दम नयी नवेली दुल्हन की तरह शर्मा गयी.

"लो चाइ पियो. इसे पीने से तुम्हारे बदन मे स्फूर्ति आ जाएगी." मैने उसकी तरफ चाइ का प्याला बढ़ाते हुए कहा. वो मेरे हाथ से कप ले कर सोफे पर बैठ गयी. उसके मुँह से ना चाहते हुए भी एक कराह निकल गयी.

`क्या हुआ?'

` कुच्छ नही. ज़ख़्मों से टीस उठ रही थी.' उसने अपने निचले होंठ को दाँतों मे दबाकर दर्द को पीने की कोशिश की.

` अरे मैं तो भूल ही गया था. बहुत बेदर्दी से उनलोगों ने संभोग किया है तुमहरे साथ. कई जगह से तो खून भी निकल रहा था.'

उसके चेहरे पर एक दर्दीली मुस्कान उभर आई. हम चुपचाप चाइ ख़त्म करने लगे.

`अभी आया' कहकर मैं उठा और बेडरूम मे जाकर रॅक से एक सेव्लान की शीशी और रुई ले आया.

`चलो यहाँ आओ बेडरूम मे.' मैने उसे कहा. वो मेरी ओर शंकित निगाहों से देखने लगी.

`अरे भाई तुम्हारे ज़ख़्मों की ड्रेसिंग करनी होगी. तुम्हे लेटना पड़ेगा.'

वो सिर झुकाए उठी और बिना कुच्छ कहे बेडरूम मे आकर खाट पर लेट गयी.

` कहाँ कहाँ जख्म है मुझे दिखाओ'

`उसने एक उंगली से अपनी छातियो की ओर इशारा किया.' फिर वो अपनी कनपटी उंगलियों से अपने शर्ट के बटन्स खोलने लगी. मैं ये देख कर अवाक रह गया कि उसे एक बनियान देने के बाद भी उसने नीचे कुच्छ नही पहन रखा था. उसने अपने शर्ट के दोनो पल्लों को अलग किया और उसका साँचे मे तराशा हुआ बदन मेरे आँखों के सामने था. उसने अपनी आँखों को सख्ती से बंद कर रखा था. मानो आँख के बंद करने से उसका नग्न बदन दूसरों की आँखों के सामने से गायब हो गया हो.

मैने देखा कि उसके चूचियो पर और उसके निपल्स के आसपास अनगिनत दाँतों के निशान थे. एक निपल के जड़ से खून निकल रहा था. दो चार और घाव गहरे थे. मैने रूई लेकर उसे सेव्लान मे डुबो कर उसके घावों के उपर फिराने लगा. वो दर्द से कराह रही थी. "आअहह..... ऊऊहह" उसने कुच्छ देर मे अपनी आँखेने डरते डरते खोल ली.

कुकछ घाव जो गहरे ताजे उसमे नहाने के बाद भी मिट्टी पूरी तरह से सॉफ नही हुई थी. मैने उसके घावों को अच्छि तरह से साफ किया.

इस दौरान कई बार उसकी चूचियो को दबाना उसके निपल्स को पकड़ कर खींचना पड़ा. मेरा लिंग इस काम को करते करते जाने कब तन कर खड़ा हो गया. जब मेरी आँखें उसके बदन से फिरती हुई उसकी आँखों पर गयी तो मैने पाया उसकी आँखें मेरे तने हुए लिंग पर टिकी हुई थी. उसके गाल शर्म से लाल हो रहे थे. अब उस कंडीशन मे मैं अपने लिंग के उभार को उसकी नज़रों से छिपाने मे असमर्थ था.

मैने देखा वो एक बार अपने निचले होंठ को दांतो से काट कर हल्के से मुस्कुरा उठी. फिर उसने अपनी आँखें बंद कर ली उसकी होंठों पर वो हल्की सी मुस्कान अभी तक खिली हुई थी. शायद वो आँखों को बंद करके मेरे लिंग की कल्पना कर रही थी.

मैने महसूस किया कि उसके ब्रेस्ट अब पहले जीतने नरम नही रहे. उन मे हल्की सी सख्ती आ गयी थी. निपल्स भी तन कर खड़े हो गये थे. मैने उसकी बंद आँख का सहारा पाकर अपने हाथ से अपने लिंग को सेट इस तरह किया कि वो सामने वाले को ज़्यादा खराब नही लगे. मेरे हाथ अब उसकी चूचियो पर हरकत करते हुए काँप रहे थे. कुच्छ देर बाद चूचियो के सारे घाव ड्रेसिंग करके मैने कहा,

" लो अब अपने शर्ट के बटन्स बूँद कर लो ड्रेसिंग हो गयी. है." वो कुच्छ देर तक वैसे ही पड़ी रही. मैने सोचा कि शायद वो सो गयी हो लेकिन दरस्ल वो अपने ही ख़यालों मे खोई हुई थी इसलिए मेरी धीमी आवाज़ को वो सुन नही पाई.

मैने उसे धीरे से हिला कर वापस अपनी बात दोहराई. वो शर्म से तार्तार हो गयी.

"सॉरी" कह कर उसने अपने शर्ट के बटन लेते लेते ही बंद करने शुरू किए.

ReplyQuote
Posted : 13/01/2012 4:14 pm
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

" नीचे भी हैं क्या घाव." मैने अपने माथे पर उभर आए पसीने को पोंचछते हुए उससे पुचछा. मेरे सवाल को सुन कर उसने आँखें खोली और बिना कुच्छ कहे हां मे सिर हिलाया.

" अब इसे उतारो" मैने उसकी लूँगी की ओर इशारा किया.

"मुझे शर्म आती है."

"शर्म किस बात की अभी तो कुच्छ देर पहले मेरे सामने बिल्कुल नंगी थी. मैने तो तुझे उस अवस्था मे देखा है जिस हालत मे सिर्फ़ तुझे तेरा पति देखा होगा."

" नही रहने दो अब"

" देख घाव गहरे हैं सेपटिक हो गया तो फिर नासूर बन जाएगा. तू आँखें बंद कर मैं तेरी लूँगी हटाता हूँ."

" नही पहले आप भी अपनी आँखें बंद करो. नही तो मुझे शर्म आएगी."

" अरे पगली अगर मैने आँखें बंद कर ली तो तेरे घावों को सॉफ कौन करेगा?"

मैने अपने हाथ उसकी लूँगी की गाँठ पर रख दिए. उसने तुरंत मेरे हाथों को थाम लिया.

" ठहरो मैं खुद खोल देती हूँ. वैसे मुझे तुम्हारे सामने नग्न होते कोई झिझक नही हो रही है"

"क्यों मैं तो एक अंजान पराया मर्द हूँ"

" नहीं तुम सबसे अलग हो. उनके जैसे नहीं हो जिन्हों ने मेरी ये हालत की है." कह कर उसने अपनी लूँगी की गाँठ को ढीली कर दी.

सामने से कटी उस लूँगी के दोनो किनारों को पकड़ कर मैने अलग कर दिया. उसने इस बार अपनी आँखें नहीं बंद की. उसकी आँखें एकटक मेरे चेहरे पर लगी हुई थी. लेकिन मेरी आँखें तो मानो उसके निचले बदन के निर्वश्त्र होते ही अपनी सुध बुध खो चुका था. उसने अपनी दोनो टाँगों को सख्ती से एक दूसरे से जोड़ रखा था. उसके जांघों के जोड़ पर जहाँ एक "वाई" की आकृति बन रही थी. छ्होटे छ्होटे सलीके से ट्रिम किए हुए बाल बहुत ही खूबसूरत लग रहे थे. कुच्छ देर तक उसकी लूँगी के दोनो पल्लों को हाथ मे थामे बस बुत की तरह उसे देखता ही रहा. फिर मैने चौंक कर उसकी तरफ देखा और उसे अपनी तरफ देखता पाकर हड़बड़ा गया. उसके चेहरे पर एक ना समझ मे आने वाली मुस्कान खिली थी. मैने झट अपने माथे पर छल्क आए पसीने को पोंछ कर उसके टाँगों के जोड़ की तरफ देखा.

उसके एक टांग को अपने हाथों से पकड़ कर अलग किया. उसने इस बार अपनी तरफ से किसी तरह का विरोध नही किया.. उसने अपना बदन ढीला छ्चोड़ दिया था. उसके एक टांग को घुटनो से मोड़ कर अलग किया. फिर दूसरी टांग को भी वैसे ही किया. उसकी योनि खुल कर सामने आ गयी थी. उसके योनि और उसके आस पास भी काफ़ी सारे दाँतों के निशान थे. दोनो टाँगों को अलग कर मैं अपने चेहरे को उसकी योनि के पास लाया. उसकी योनि मेरी आँखों से मुश्किल से 6" की दूरी पर होगी. मैने सेव्लान मे भिगो कर रूई को पहले उसके घावों पर फिराया. उसने अपने दाँत से अपने निचले हन्त को सख्ती से पकड़ रखा था. शायद उसकी ये अदा होगी. उसके हाथ तकिये को अपनी मुट्ठी मे ले रखे थे. मैं उसके घावों पर दवाई लगा रहा था.

" कितनी बेरहमी से तुम्हारे बदन से खेला है उन लोगों ने."

" हां वो साले चार थे साथ मे इतना बड़ा एक कुत्ता भी था. साले पता नही कब से मुझ पर नज़र रखे हुए थे. उस दिन मुझे अंधेरे मे घर लौटते हुए देख कर उनकी बाँछे खिल गयी. और अपनी वॅन को लाकर मेरे नज़दीक रोक कर मेरी गर्दन पर चाकू रख कर मुझे वॅन मे आने के लिए विवश कर दिया. अंदर दो आदमी पीछे बैठे हुए थे और उनके पैरों के बीच काफ़ी तगड़ा और मोटा एक कुत्ता भी बैठा हुआ था. मुझे अंदर खींच कर उन दोनो ने अपने बीच मे मुझे बिठा लिया. टिल्लू दादा के आदमियों को देख कर तो मैं पहले से ही डरी हुई थी ऊपर से वो डरावना कुत्ता अपने दाँत निकाले मुझे घूर रहा था.

उन्हों ने मुझे धमकी दी कि अगर मैने किसी प्रकार का विरोध किया तो कुत्ता मुझे नोच कर खा जाएगा. उस कुत्ते ने अपने दोनो आगे के पैर मेरी गोद मे रख दिए और मेरे मूह के सामने अपनी लंबी जीभ निकाल कर लपलपाने लगा. मैं किसी बुत की तरह बिना हीले दुले बैठी हुई थी. अगल बगल के दोनो आदमी मेरे बदन से मेरे कपड़े हटते जा रहे थे. वो जैसा चाह रहे थे वैसा मेरे बदन से खेल रहे थे और मेरे पास उनको सहयोग करने के अलावा कोई चारा नही था. एक बार मैने हल्का सा विरोध किया तो कुत्ता गुर्रा उठा. मैं सहम कर अपने मे सिमट गयी. कुच्छ ही देर मे मैं उनके बीच पूरी तरह नंगी बैठी हुई थी."

मैं उसकी बातों को सुनते हुए उसकी योनि पर रुई फिरा रहा था. फिर मैने अपने दोनो हाथों की उंगलियों से उसकी योनि की फांकों को अलग किया और फैलाया. अंदर कोई जख्म तो नही दिखा मगर उसकी योनि के भीतर झाँकते हुए मेरा पूरा बदन सिहरन से भर गया. मेरा लिंग पूरी तरह तन कर खड़ा हो गया था उसे किसी भी तरह से शांत कर पाना अब मेरे वश मे नही था. वो इस तरफ से अपना ध्यान हटाने के लिए बिना रुके उसके साथ हुई घटनाओ को दोहराती जा रही थी.

"साले मुझे लेकर उस वीरान पड़े पार्क मे ले आए. आस पास कोई नही था मेरी असमात को लूटने से बचाने वाला. उन्हों ने मुझे नंगी हालत मे वॅन से खींच कर निकाला. मैने एक उम्मीद से अपने चारों ओर देखा लेकिन दूर दूर तक किसी मानव की छाया तक नही दिखी. वो चारों मुझे खींचते हुए पार्क मे उगी झाड़ियों के पीछे लेकर आए.

ReplyQuote
Posted : 13/01/2012 4:14 pm
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

कुत्ता कुच्छ सुन्घ्ता हुआ उनके सामने सामने चल रहा था. उन झाड़ियों के पीछे ले जाकर उन्हों ने मुझे ज़मीन पर पटक दिया. मेरे हाथो को जोड़ कर एक कपड़े के टुकड़े से बाँध दिया. मेरे मुँह मे एक गंदा सा कपड़ा ठूंस दिया जिससे मैं चीख ना सकूँ. फिर एक के बाद दोसरा दूसरे के बाद तीसरा, कभी दो एक साथ कभी मुँह मे कभी गुदा मे मुझे ना जाने कितनी बार कितने तरीके से उन्हों ने रगड़ा. मेरी खाल जगह जगह से छिल गयी थी. जानवरों की तरह मेरे स्तनो पर और जांघों के बीच उन्हों ने काट डाला. मैं दर्द से चीखी जा रही थी मगर मुँह से "गूओ....गूऊ" के अलावा कोई आवाज़ नही निकल रही थी.

मेरे दोनो आँखों से आँसू झाड़ रहे थे मगर किसे परवाह थी मेरे आनसूँ की. उनके मोटे मोटे लंड मेरी चूत को रगड़ रगड़ कर उसकी खाल उधेड़ रहे थे. मैं छट-पता रही थी मगर इस हालत मे सिर्फ़ आँखों से झरने वाले पानी के अलावा कुच्छ भी नही कर पा रही थी. साले हरमजदों ने मुझे जी भर कर चोदने के बाद वहाँ एक बेंच पर हाथों का सहारा लेकर घुटनो के बल झुकाया और उसके बाद जो हुआ......उफफफ्फ़. ......... क्यों बचा कर लाए तुम मुझे? बोलो मुझ से क्या दुश्मनी थी तुम्हारी...."

"चलो बीती बातें भूल जाओ"

"नही कैसे भूल सकती हूँ. कैसे भूल सकती हूँ उन हरमजदों को. सालों का जब जी भर गया मुझसे तब मुझे झुका कर अपने कुत्ते को चढ़ा दिया मेरे उपर. उसके लिंग को मेरी योनि मे डाल दिया. मैं उस गंदे संभोग की कल्पना करके ही कांप जाती हूँ."

"चलो ड्रेसिंग हो चुकी है अब तुम उठ कर कपड़े पहन लो." मैं वहाँ से मूड कर जाने लगा तो उसने अपने हाथ से मेरे हाथ को पकड़ लिया.

वो उसी अवस्था मे उठ कर बिस्तर पर बैठ गयी. और मेरे हाथ को पकड़ कर अपनी ओर खींचा जब मैं अपनी जगह से नही हिला तो खींचाव के कारण वो उठ कर मेरे सीने से लग गयी. और मेरे चेहरे को अपने हाथो से थाम कर मेरे होंठों को चूम लिया.

"ये ये तुम क्या कर रही हो?" मैं हड़बड़ा गया.

" तुम...." कहकर अपनी जीभ को काट लिया " आप बहुत अच्छे हैं." कहकर उसने अपनी नज़रें झुका डी.

" अनु तुम अभी होश मे नही हो. अपने साथ हुए उस हादसे की वजह से तुम्हारा दिमाग़ काम नही कर रहा है. तुम अभी भूखी हो पहले हम दोनो के खाने का कुच्छ इंतेज़ाम करें."

" तुम अकेले कैसे रह लेते हो. मुझे तो सारा घर काटने दौड़ता है. तुम्हे कभी औरत की ज़रूरत महसूस नही होती."

" अनुराधा" मैने बात को ख़त्म करना चाहा.

" इसमे शर्म की क्या बात है. ये तो जिस्मानी ज़रूरत है किसी को भी महसूस हो सकती है. मैं तो सॉफ कह सकती हूँ कि मुझे तो ज़रूरत महसूस होती है किसी मर्द की. लेकिन ऐसे नही...." उसने कुच्छ सोचते हुए कहा " ऐसा मर्द जो मुझे ढेर सारा प्यार दे. और कुच्छ नही चाहिए मुझे."

"चलो उठो अब तुम बहकने लगी हो." मैने हाथ पकड़ कर उसे उठाया तो वो मेरे बदन से सॅट गयी. उसके बदन की गर्मी से मेरे पूरे बदन मे एक झुरजुरी सी दौड़ गयी. हम एक दूसरे की आँखों मे आँखें डाल कर समय को भूल गये. कुच्छ देर बाद वो अपनी नज़रें झुका कर किचन मे चली गयी. मैं उसके पीछे पीछे जाने लगा तो उसने मुझे रोक दिया.

" ये मर्दों की जगह नही है. आप आराम कीजिए मैं कुच्छ ना कुच्छ बना लेती हूँ" कहते हुए उसने मेरी नाक को पकड़ कर कुर्सी की तरफ धकेल दिया. मैं बैठ गया और उसे निहारने लगा. वो इठलाती हुई किचन मे चली गयी.

ReplyQuote
Posted : 13/01/2012 4:15 pm
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

मैं सोचने लगा अभी कुच्छ ही देर की मुलाकात है. मैं नीरस और
मरियल सा आदमी मुझमे ऐसा क्या देख लिया इसने कि ऐसी कोई हूर मेरी
झोली मे आ टाप्की. मैं अभी तक विस्वास नही कर पा रहा था कि मेरी
किस्मत इस तरह भी पलटा खा सकती है. मैं इस सुंदर औरत से मन
ही मन प्यार करने लगा हूँ.

मैं उठा और शेल्फ मे छिपाकर रखे विस्की के बॉटल को निकाला.
लेकिन तभी याद आया कि रोज की तरह आज मैं अकेला नही हूँ. मैं
किचन मे आया अनुराधा रोटी बनाने मे व्यस्त थी.

" मैं अगर एक आध पेग ले लूँ तो तुम कुच्छ ग़लत तो नही सोचोगी?"
मैने झिझकते हुए पूचछा.

" अच्च्छा तो आप इसका भी शौक रखते हैं?"

"नही नही ऐसी बात नही वो तो मैं कभी..कभी."

" कोई बात नही आप शौक से लीजिए. मुझे आपकी किसी बात से कोई
इत्तेफ़ाक़ नही है." उसने कहा.

मैं एक ग्लास लेकर दो पेग विस्की उसे निहारते हुए सीप किया. तब तक
उसने रोटी और दाल बना ली थी. हम दोनो ड्रॉयिंग रूम मे बैठ कर
खाने लगे. खाना खाने के बाद मैने उसे कहा

" अनुराधा तुम बेडरूम मे सो जाओ."

"और आप?" उसने पूचछा.

" मेरे लिए तो यही कमरा बचा. मैं यहाँ सोफे पर सो जाउन्गा." मैने
कहा.

" आप यहाँ कैसे सोएंगे. बेडरूम मे ही आ जाओ ना." उसने मेरी आँखों
मे झाँक कर कहा.

" कोई बात नही रात के दो बज चुके हैं अब सूरज उगने मे टाइम ही
कितना बचा है." मैने कहा और उसे बेड रूम मे ले गया.

" दरवाजा अंदर से बंद कर लो" मैने कहा

" जी मुझे यहाँ डरने लायक कोई चीज़ दिखाई नही दे रही है जो मैं
दरवाजा बंद करूँ." कहकर वो बेडरूम मे चली गयी. मुझे उसके
लहजे से लगा कि वो शायद चिढ़ गयी है.

मैं कुच्छ देर तक सोने की कोशिश करता रहा लेकिन नींद नही आ रही
थी. बगल के कमरे मे कोई खूबसूरत सी महिला सो रही हो तो मुझ
जैसे अकेले आदमी को नींद भला कैसे आ सकती है. बरसात तेज हो
गयी थी. इस कमरे का एक दरवाजा बाल्कनी मे खुलता है. उसे खोल कर
मैं बाहर निकला तो कुच्छ राहट महसूस हुई. मैं अंधेरे मे ज़मीन पर
गिरती बूँदों को देखता हुआ काफ़ी देर तक रेलिंग के सहारे खड़ा
रहा. अचानक मुझे लगा कि वहाँ मैं अकेला नही हूँ. किसीकि गर्म
साँसें मेरे गर्दन के पीछे महसूस हुई. अचानक उसने पीछे से
मुझे अपनी आगोश मे भर लिया.

"नींद नही आ रही है?" मैने पूचछा.

" हां.." उसने कहा " तुम भी तो जाग रहे हो."

" ह्म्*म्म्म"

" क्या दीदी की याद सता रही है?" उसने मेरी पीठ पर अपनी नाक गढ़ा
दी " दीदी बहुत सुंदर थी ना?"

" तुम्हे कैसे मालूम?"

" मैने उनकी तस्वीर देखी है. जो बेडरूम मे लगी हुई है." उसने कहा

" अनु तुम ये क्या कर रही हो. मैं...."

" मुझे मालूम है कि मैं क्या कर रही हूँ. और मुझे इसका कोई अफ़सोस
नही है." उसके हाथ अब मेरे बालों से भरे सीने पर घूम रहे
थे " चलो ना मुझे बहुत नींद आ रही है."

मैं हंस दिया उसकी बात सुनकर. " तुम्हे नींद आ रही है तो जा कर सो
जाओ ना."

" नही मैं तुम्हारे बिना नही सो-उंगी वहाँ. मुझे डर लग रहा है."

" ओफफो किस बात का डर. मैने कहा ही तो था कि दरवाजा लॉक करलो"

ReplyQuote
Posted : 13/01/2012 4:15 pm
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

" मुझे किसी और से नही अपने आप से डर लग रहा है." कहकर वो
मेरे सामने आ गयी और मुझ से लिपट कर मेरे होंठों पर अपने होंठ
रख दिए " चलो ना....चलो ना....प्लीज़"

वो किसी बच्चे की तरह ज़िद करने लगी. मेरी बाँह को अपने सीने मे
दबा कर अंदर की ओर खींचने लगी. इससे उसके ब्रेस्ट मेरे बाँहो से
दब रहे थे. मैने देखा कि वो किसी तरह भी मानने को तैयार नही
है तो हारकर उसके साथ अंदर चला गया. बाल्कनी के दरवाजे को कुण्डी
लगा कर वो मुझे लगभग खींचती हुई बेड रूम मे ले गयी.

" दोनो यहीं सोएंगे. इसी बिस्तर पर." उसने कहा

" लेकिन मैं एक पराया मर्द जो अभी कुच्छ घंटे पहले तुम्हारे लिए
एकद्ूम अपरिचित था. कहीं रात के अंधेरे मे मैने तुम्हारे साथ
कुच्छ कर दिया तो?" मैने अपने को उसकी जकड़न से छुड़ाने की कोशिश
की लेकिन उल्टे मेरी बाँह पर उसकी पकड़ और ज़्यादा हो गयी.

" पराया मर्द. तुम पराए मर्द हो? तुम्हारे साथ कुच्छ घंटे गुजारने
के बाद अब तुम मेरे लिए पराए नही रहे." उसने अपना सारा बोझ ही
मेरे उपर डाल दिया " तुम अंधेरे का फ़ायदा उठा कर कुच्छ करना
चाहते थे ना? तो करो...करो तुम क्या करना चाहते थे. मैं कुच्छ भी
नही कहूँगी."

मैं उसकी बातों को सुनकर अपनी थूक को गुटाकने के अलावा कुच्छ भी
नही कर सका.

" राघव साहब किसी पराई औरत के साथ कुच्छ करने के लिए इतना
बड़ा जिगर चाहिए. वो तो साले मुझसे चार गुना थे नही तो मैं उनको
छ्टी का दूध याद दिला देती. बैठो यहाँ." कह कर उसने मुझे
बिस्तर पर धकेल दिया.

फिर जो हुआ उसकी मैने कल्पना भी नही की थी. उसने एक झटके मे
सबसे पहले अपने बालो को जकड़े हुए क्लिप को खोल कर फेंक दिया.
फिर एक झटके से अपनी लूँगी उतार कर फेंक दी. उसका निचला बदन
बिल्कुल नग्न हो गया.. मैं अवाक सा बिस्तर पर बैठा रहा. मेरी समझ
मे नही आ रहा था कि मुझे क्या करना चाहिए. उसने अपनी एक टांग उठा
कर मेरे सीने पर रख कर हल्के से धक्का दिया. इस धक्के से मैं
बिस्तर पर गिर पड़ा. उसका एक पैर ज़मीन पर था और एक मेरे सीने
पर. इससे उसकी योनि सॉफ दिखने लगी. उसने इसी तरह खड़े रहकर एक
एक करके अपनी शर्ट के सारे बटन्स खोल दिए. फिर शर्ट को अपने
बदन से उतार कर दूर फेंक दिया. अब वो हुष्ण की परी बिल्कुल नग्न हो
चुकी थी.

फिर वो कूद कर मेरे उपर बैठ गयी. उसने मेरे शर्ट के बटन खोल
कर उसे बदन से हटा दिया. अंदर मैने कुच्छ नही पहन रखा था.
मेरे नग्न सीने को देख कर वो चहक उठी.

" म्*म्म्मम ये हुई ना मर्दों वाली बात क्या सेक्सी सीना है." वो मेरे सीने
पर उगे घने बालों मे अपना चेहरा रगड़ने लगी.

"क्या कर रही हो? तुम पागल हो गयी हो क्या?" कहकर मैने उसे ज़ोर से
धक्का दिया. वो ज़मीन पर गिर पड़ी. " तुम शादी शुदा हो इस तरह
का व्यवहार तुम्हे शोभा नही देता."

"हाआँ...... हाआ... ....मैं पागल हो गयी हूँ. मैं पागल हो गयी
हूँ...." उसने वापस बिस्तर पर सवार होते हुए कहा " तुमने ये घाव
देखे हैं. जिस्म के अंदर का जख्म नही देखा. तुम क्या जानो बलात्कार
क्या होता है. तुम मेरी जगह होते तो तुम्हे पता चलता. तुम भी यही
करते जो मैं कर रही हूँ." कहते हुए उसने मेरे सिर को अपने
छातियो से सटा लिया.

"देखो सूंघ कर मेरे जिस्म के हर इंच से उन हरामी आदमियों की बू आ
रही है. मैं इस बदबू से पागल हो जाउन्गि. मुझे इससे बचा लो मेरे
जिस्म के हर रोएँ मे अपने बदन की सुगंध भर दो.
प्लीईएसस्स.. ....प्लीईससी मुझे प्यार करो. मुझे. मेरे बदन को
अपने बदन से धक लो." कहकर वो रोने लगी. मुझे समझ मे नही आया
की मैं क्या करूँ.

"अरे...अरे.. ..रो क्यों रही हो?" मैने उसके नग्न बदन को अपनी बाहों
मे भर लिया.

" मैं टूट चुकी हूँ.....मुझे बचालो नही तो मैं कुच्छ कर
बैठूँगी. वो....वो मेरा मरद होकर भी नमार्द है साला. अपनी बीवी
को कुत्तों के हवाले छ्चोड़ कर भाग गया. किस बात की शादी शुदा?
थू...."

मैं उसके चेहरे को अपने हाथों मे थाम कर चूमने लगा. उसके होंठों
को, उसकी पलकों को, उसके कानो को, उसके गले को मेरे होंठों से नापने
लगा. वो काफ़ी देर तक सुबक्ती रही मेरे हाथ पहले उसके बालों मे फिर
रहे थे.. फिर उसे शांत होता देख मैं उसके स्तानो को प्यार से सहलाने
लगा. वो भी मेरे होंठों को बुरी तरह चूम रही थी. दोनो ही सालों
से सेक्स के भूखे थे. दोनो एक दूसरे की प्यास बुझाने की कोशिश मे
लगे हुए थे. जैसे ही हम दोनो के बदन अलग हुए हम दोनो एक
दूसरे के नग्न बदन को निहारने लगे.

"प्लीज़... ये ट्यूबलाइज्ट बूँद कर दो. मुझे शर्म आती है." उसने अपना
चेहरा शर्म से झुका लिया.

"एम्म्म...अचहचाअ .......आपको शर्म भी आती है?"

" धात....मज़ाक मत करो" मैने उठ कर ट्यूब लाइट ऑफ करके बेडलांप
ऑन कर दिया. उसने मेरे उपर लेटते हुए मुझे बिस्तर पर लिटा दिया.
फिर मेरी टाँगों के पास बैठ कर मेरे एक टाँग को अपने हाथों से
उठाया और उसके अंगूठे को मुँह के अंदर लेकर चूसने लगी. उसके
होंठ मेरे पैरों पर फिरने लगे. उफ़फ्फ़ ऐसा प्यार मैने करना तो दूर
किसी पिक्चर मे भी नही देखा था. मेरे पैरों की एक एक उंगली को
अपनी जीभ से गीला करने के बाद उसने मेरी एडी पर हल्के हल्के से
दाँत गाड़ने शुरू कर दिए.. उसकी जीभ मेरी पिंदलियों पर से होते
हुए मेरे घुटनो की ओर बढ़े. जगह जगह पर रुक कर उसके दाँत
हरकत करने लगते थे. मेरे पूरे बदन मे सिहरन सी दौड़ जाती थी.
मैं अपनी उंगलियाँ उसके बालों मे फिरा रहा था. उसके होंठ और जीभ
घुटनो के उपर विचारने लगे. मेरा लिंग काफ़ी देर से कड़क रहने के
कारण दुखने लगा था. उसे अब सिर्फ़ किसी चूत का इंतेज़ार था.

ReplyQuote
Posted : 13/01/2012 4:16 pm
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

उसके होंठ मेरी जांघों के उपर फिरने लगे. उसके स्तन मेरे पैरों की
उंगलियों को छू रहे थे. मैं अपने पैरों की उंगलियों से उसके
निपल्स को च्छू रहा था. उसने मेरे लिंग को अपनी मुट्ठी मे भर लिया.
और हल्के हल्के से अपने हाथ से उसको सहलाने लगी. उसका मुँह अब मेरे
लिंग की जड़ पर था.. उसने मेरे लिंग को अपने हाथों मे पकड़ कर मेरे
लंड के नीचे लटकते दोनो गेंदों को जीभ से चाटना शुरू किया.
बीच बीच मे वो उनको अपने मुँह मे भर लेती, उनको अपने होंठों से
चूमती. फिर उसके जीभ मेरे खड़े लंड पर नीचे से उपर तक फिरने
लगे. उसने अपने हाथों से मेरे लंड को आज़ाद कर दिया था. बिना किसी
सहारे के भी लंड बिल्कुल तन कर खड़ा था. वो अपनी जीभ को पूरे
लंड पर फिरा रही थी. फिर वो उठ कर मेरे उपर आकर मेरे होंठों को
चूम कर बोली.

" मुझे इसे मुँह मे लेकर प्यार करने दो."

मैने मुस्कुरा कर उसको अपना समर्थन दिया. उसने मेरे लिंग को जितना
हो सकता था अपने मुँह मे भर लिया. उस अवस्था मे उसकी जीभ मुँह के
अंदर भरे हुए मेरे लिंग पर अपने रस की परत चढ़ा रही थी. मैं
उत्तेजना मे सिहर रहा था. इस अंजान औरत ने आज मुझे पागल बना
कर रख दिया था. मैने उसके सिर पर अपनी उंगलियाँ फेरनी शुरू कर
दी.

काफ़ी देर तक मेरे लंड को तरह तरह से चूसने के बाद वो मेरे
कमर पर बैठ गयी.

"इन्हे चूसो. ये तुम्हारे हाथों के लिए तुम्हारे होंठों के लिए तरस
रहे हैं." कहकर उसने अपने स्तन मेरे होंठों पर च्छुआ दिए. मैने
अपना मुँह खोल कर उसके निपल को अपने मुँह मे भर लिया और हाथों
से उसके स्तन को मसालते हुए उसके निपल को ज़ोर ज़ोर से चूसने लगा.

" आआह्ह्ह हाआअन्न्न्न आयावुववुवररररर जूऊओररर सीई हाआनन्न कययायेट
डलूऊओ डाआंतूओन से काअट डलूऊ ईईए सीईईईईईइईर्रफफ़्फ़
तुम्हरीईए लिईए हैन्न जूओ म्बीर्जियीयियी करूऊ."

काफ़ी देर तक अपने दोनो स्तानो को चुसवाने के बाद उसने अपने कमर को
उठाया.

" मेरे हुमदूम, मेरा बदन अपने इस प्यारे लिंग की फुआहर से सूद्ढ़ कर
दो. उन हरमजदों की चुदाई से उनके होंठों की बास से उस गंदे कुत्ते
के लिंग ने मेरे बदन को कचरे की टोकरी की तरह इस्तेमाल किया है.
मेरे नथुनो से वो बदबू हटा कर सिर्फ़ अपने बदन की अपने पसीने की
सुगंध इसमे भर दो. मैं तुम्हारी गुलाम बन कर रहूंगी लेकिन मुझे
इससे छुट-कारा देदो." कह कर उसने मेरे कमर के उपर बैठ कर मेरे
लिंग को अपने हाथों से पकड़ा.

"इसे मेरी योनि मे डाल कर मुझे बुरी तरह चोदो." कहकर उसने अपनी
कमर को उठाया फिर उसने मेरे खड़े लिंग को एक हाथ से पकड़ कर
सीधा किया और दूसरे हाथ की उंगलियों से अपनी चूत की फांकों को
अलग कर मेरे लंड के स्वागत मे उन्हे चौड़ा किया. फिर दोनो हाथों की
मिली भगत से मेरे लिंग के सूपदे को अपनी चूत के बीचे मे सेट कर
के अपनी चूत को सम्हलने वाले हाथ को अलग करके अपने सिर को उठाया.
मेरी आँखों मे झँकते हुए उसके चेहरे पर एक विजयी मुस्कान आई
और उसने अपनी कमर को एक तेज झटके से नीचे छ्चोड़ दिया. मेरा लिंग
उसकी चूत की दीवारों की चूमता हुआ अंदर तक धँस गया. उसके मुँह
से एक "आआहह" निकली और वो मेरे लिंग पर बैठ गयी थी.

" उम्म्म्म बहुत प्यारा है ये. अब सारी जिंदगी इसी की बन कर
रहूंगी." कह कर वो मेरे उपर लेट गयी. और बेतहासा मेरे होंठों
को मेरे मुँह को मेरे गालों को चूमने लगी. मैं उसकी नग्न पीठ को
सहला रहा था. उसके रीढ़ की हड्डी के आस पास उत्तेजना और गर्मी से
पसीना छलक आया था. फिर उसने मुझे जम कर चोदना शुरू कर दिया.
करने के लिए मेरे पास कुच्छ नही था. मैं बस नीचे लेते लेते
उसकी चुदाई को एंजाय कर रहा था. कुच्छ देर तक इसी तरह चोदने के
बाद वो चीख उठी, "आआआअहह म्*म्म्माआआ ह्म्*म्म्म...उफफफफ्फ़" और
उसका रस मेरे लिंग को भिगोते हुए नीचे की ओर बहने लगा. वो
पसीने से लटपथ मेरे सीने पर लुढ़क गयी. वो मेरे सीने पर
लेते लेते ज़ोर ज़ोर से साआंसें ले रही थी. मैं समझ गया कि वो थक
गयी है. अब कमान को मेरे हाथ मे लेना पड़ेगा.

मैने उसको उठाकर सीधा किया फिर उसे बिस्तर पर लिटा कर उसे उपर
से चोदने लगा. उसके नाख़ून मेरी पीठ पर गड़ गये थे. उनसे शायद
हल्का हल्का खून भी रिस रहा था. उसके पैर मुड़े हुए उसकी कमर को
मेरे धक्कों से मिलाने के लिए हवा मे उच्छल रहे थे. मैं भी उसकी
चूत को आज फाड़ देने के लिए ज़ोर ज़ोर से धक्के मार रहा था. कुच्छ
देर बाद उसने मेरे कमर को अपने टाँगों की कैंची बनाकर उसमे
दबोच लिया और उसका इसी तरह दोबारा स्खलन हो गया. मैने और कुच्छ
देर तक धक्के मार कर जब देखा कि मेरा स्खलन होने वाला है तो
अपने लिंग को बाहर खींचना चाहता था मगर उसने अपनी टाँगों को
सख्ती से मेरे कमर के उपर दबा कर मेरे लिंग को अपनी चूत से बाहर
जाने से रोका. इस अवस्था मे मैं घुटने के बल सीधा हो गया और उसकी
कमर मेरे लिंग से सटी हुई बिस्तर से डेढ़ फुट उपर उठ गयी थी.

ReplyQuote
Posted : 13/01/2012 4:16 pm
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

" नही मेरी योनि मे ही डालो अपना रस. मुझे भर दो. मेरे पेट पर
अपना हक़ जमालो. उस गंदे पानी को निकाल बाहर कर दो." कह कर उसने
मेरी गर्दन पर अपनी बाँहें डाल कर बिस्तर से अपने पूरे बदन को
उठा दिया. मैने ढेर सारा वीरया पिचकारी के रूप मे उसकी योनि मे
भरने लगा. उसका भी स्खलन साथ साथ हो गया वो चीख रही
थी, " हाआअंन्न हाआँ . ओफफफफ्फ़ भाआर्र दूऊऊ मुझीईए
प्लीईईए.हाआआं इथनाआ डाअलो कीईईईई बाआहार्र ताक छलक
कर गिरीईए. मेरे पूऊरे बदन पर्रर लीईएप चधदूओ अप्नाआ"

मैं अपने लिंग को उसकी योनि के अंदर ज़ोर से दबाए हुए था. जब तक
मेरा लिंग ढीला हो कर सिकुड नही गया अनु ने मुझे छ्चोड़ा नही.
जैसे ही उसने अपनी टाँगों का कसाव कम किया उसका बदन बिस्तर पर गिर
गया और मैं उसके उपर. उसने मुझे अपनी बाहों के घेरे मे क़ैद कर के
बेतहासा चूमने लगी.

"मेरा ये बदन आज से आपका है. मैं आपकी बीवी भले ही नही हू
लेकिन आपकी गुलाम ज़रूर रहूंगी. आपका पूरा हक़ है मेरे उपर. जब
भी बुलाओगे दौड़ी चली ओंगी." उसने मुझे चूमते हुए कहा.

हम दोनो एक दूसरे से लिपटे हुए कुच्छ देर लेते रहे. फिर वो झपट
कर उठी और मुझे चित करके लिटा कर मेरे लिंग को सहलाने लगी.

"क्या हुआ? मन नही भरा क्या?" मैने पूचछा.

"न्न्ना इतनी जल्दी किसी का मन भरेगा क्या इतने प्यारे लिंग से"

"अनु अब मैं 30 साल का गबरू जवान नही हूँ जो दिन भर खड़ा करके
घूमता रहूँगा. लगता है अबसे मुझे दवाई लेनी पड़ेगी लिंग को
खड़ा रखने की."

" दवाई की ऐसी की तैसी. इस मोटे घोड़े जैसे लिंग को किसी दवा की
क्या ज़रूरत. मेरी तो जान निकाल कर रख दी. दवाई तो आपको नही
मुझे लेनी पड़ेगी नही तो पेट फूला दोगे किसी दिन" उसने कहते हुए
मेरे लिंग को अपने मुँह मे भर लिया और जीभ से उसे सहलाने लगी.
मैं चुपचाप लेता हुआ उसकी हरकतों को निहारने लगा. मुझे भी बहुत
प्यार आ रहा था लेकिन फिर भी वो एक पराई औरत थी. मैं भले ही
अकेला था लेकिन उसका तो हज़्बेंड जीवित था. इसलिए मैं शुरू से ही
उसकी निकट ता से थोड़ा घबरा रहा था. मुझे मालूम था कि इसका अंत
बिस्तर पर ही होना था. लेकिन वो सब कुच्छ भूल चुकी थी. और मुझे
अपने प्रेमी के रूप मे देख रही थी. मेरे हाथ उसकी नग्न पीठ को
सहला रहे थे. मेरा चेहरा उसके बालों के पीछे उसका चेहरा छिप गया था.
मैने उसे अपने हाथों से सामने से हटा दिया जिससे चाँद ओझल ना हो
सामने से. कुच्छ ही देर मे मेरा लिंग वापस हरकत मे आने लगा. वो
अपने सूजे हुए निपल्स को मेरे लिंग से च्छुआ रही थी. बीच बीच मे
उसका चेहरा दर्द से विकृत हो जाता लेकिन अगले ही पल वो दुगने जोश से
अपनी हरकतें जारी रखती.

" अनु अब बस करो तुम्हे दर्द हो रहा है."

" होने दो दर्द.मार जाने दो मुझे. मगर मुझे रोको मत. आज उन
हरमियों ने मेरे अंदर की दबी हुई आग को हवा दी है. मुझे आअज
इतना थका दो कि हिलना भी मुश्किल हो जाए."

वो मेरे दोबारा खड़े लिंग के उपर चूमती हुई उठी और अपने दोनो
पैरों को फैला कर मेरे लिंग के उपर अपनीचूत को रख कर मुझ पर
बैठ गयी.

"मेरे प्यारे बलम अब मुझे एक बार जम कर चोद दो. मुझे मसल कर
रख दो." कह कर उसने अपने पैरों को मोड और मेरे सीने के उपर
अपने दोनो हाथ रख कर मेरे लिंग पर उठने बैठने लगी. ज़ोर ज़ोर से
उठने बैठने के कारण उसकी बड़ी बड़ी गेंदें उच्छल उच्छल जा रही
थी. उसका सिर पीछे की ओर धूलका हुआ था और वो ज़ोर ज़ोर से आहें
भर रही थी. मैं उसकी चूचियो को बहुत प्यारसे सहला रहा था.

अब तो मैं भी पूरी तरह गर्म हो चुका था. मैं इतना भी बूढ़ा अभी
नही हुआ था कि किसी सेक्स मे पागल औरत को संतुष्ट ना कर सकूँ.
जब मैने देखा कि वो थक चुकी है और उसके धक्कों मे धीमपन आ
चुका है तो मैने उसे अपने उपर से किसी गुड़िया की तरह उठाया और
उसे अपनी बाहों मे लेकर बाथरूम मे घुस गया. मैने शवर ओन कर
दिया और उसे शवर के नीचे दीवार का सहारा लेकर खड़ा किया और
पीछे से धक्के देने लगा. पानी की बूँदें हम दोनो के शरीर को
चूम कर मोतियों की तरह ज़मीन पर फिसल कर गिर रही थी. मैं
काफ़ी देर तक उसे यूँ ही चोद्ता रहा फिर उसने नीचे घुटनो के बल
बैठ कर मेरे लिंग को खींच कर अपने अंदर कर लिया. हम दोनो इसी
तरह कुच्छ देर तक चुदाई करते रहे.

हम दोनो उठे मैने शवर ऑफ कर उसके जिस्म को तौलिए से पोंच्छा.
उसने भी मेरे पुर बदन को तौलिए से पोंच्छ दिया. फिर हम वापस
आने लगे लेकिन वो अपनी जगह से नही हिली. मैने बिना अपनी ज़ुबान को
दर्द दिए उससे इशारों से पूचछा. तो वो लपक कर वापस मेरी बाहों
मे आ गयी और मुझे उसके बदन को गोद मे उठाने का इशारा करने
लगी. मैने उसे वापस गोद मे लेकर बेडरूम मे लाकर सुला दिया.

फिर मैं उसके बदन के उपर लेट गया और अपना चेहरा उसकी योनि पर
रख दिया. इस पोज़िशन मे मेरा लिंग अनु के मुँह के सामने था. उसने
इस मौके को खुशी खुशी लपक लिया. हम दोनो एक दूसरे को चूम और
चाट रहे थे. दोनो की ले ऐसी थी. जब मेरी कमर उपर उठती तो
उसकी कमर नीचे होती फिर एक साथ दोनो एक दूसरे के मुँह पर वॉर
कर देते. साथ साथ हम एक दूसरे के बदन को भी सहलाते जा रहे
थे. इस हरकत ने वापस हम दोनो के बदन मे आग भर दी थी. काफ़ी
देर तक एक दूसरे के अंगों से प्यार करने के बाद हम अलग हुए.
उत्तेजना से उसका चेहरा लाल हो रहा था. फिर मैं उठा और उसे बिस्तर
पर लिटा कर उसकी टाँगों को अपने कंधे पर रख लिया. हम दोनो एक
दूसरे की आँखों मे झँकते रहे और मैने अपने लिंग को अंदर कर
दिया. उसने मेरे गले मे अपनी बाहों का हार पहना दिया. मैं कुच्छ देर
तक इसी तरह धक्का मारने के बाद उसने अपने पैरों को मेरे कंधे से
उतार कर एक दूसरे से भींच लिया. मेरे पैर अब बाहर की ओर थे.. इस
पोज़िशन मे उसकी योनि के मसल मेरे लिंग पर कस गये और वो ज़ोर
ज़ोर से नीचे की ओर से अपनी कमर को हिलाने लगी.

" राघव प्लीईसए मेरे साथ अपना निकालो. हम दोनो के रसों का
संगम हो जाने दो." उसने पहली बार मुझे नाम लेकर पुकारा था. हम
दोनो एक साथ उस छ्होटी सी जगह मे अपनी अपनी धार छ्चोड़ दिए.

हम दोनो एक दूसरे के बदन को काफ़ी देर तक चूमते रहे. तभी बाहर
चिड़ियों की आवाज़ ने हमे असलियत से वाक़िफ़ कर दिया. सुबह होने वाली
थी. हम दोनो ने रात भर बस एक दूसरे को प्यार करते गुज़ार दी
थी.

"अनु सुबह होने वाली है." मैने उसे याद दिलाया.

"म्*म्म्ममम हो जाने दो."

"किसी ने तुम्हे यहाँ देख लिया तो?"

" देख लेने दो. मुझे अब इस दुनिया मे किसी की कोई परवाह नही है."
उसने मुझे चूमते हुए कहा.

"किसी ने पूछ लिया तो क्या कहोगी?"

ReplyQuote
Posted : 13/01/2012 4:16 pm
Page 1 / 2