चोदने में सबसे अच्छ...
 

चोदने में सबसे अच्छा एस कुमार  

  RSS
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

हाय! आइ एम सुनीता डूइंग सीए फ़्रोम जोधपुर।आज मैं आपको अपनी एक रियल स्टोरी बताने जा रही हूं जो लास्ट वीक मेरे साथ हुई मेरी होबीज़ चैट करने की है मैं रोज चैट करती हूं। पर एक दिन मेरी मुलाकात एसकुमार से हुई। बातों बातों मैं ना जाने हम दोनो कब दोस्त बन गये। हम रोज घंटो बातें करने लगे। उसके साथ बात करना मुझे भी अच्छा लगने लगा। फ़िर वो सेक्स की बातें करने लगा। पहले तो मुझे बुरा लगता पर धीरे धीरे अच्छी लगने लगी। जब वो सेक्सी बातें करता तो मुझे कुछ कुछ होने लगता। फ़िर हम रोल प्लेयिंग करने लगे और नेट पर ही सेक्स करते।

फिर एक दिन मुझसे रहा नहीं गया तो मैने उसको अपने घर बुला लिया देखने में तो वो ऐवरेज था। पहले तो मैने सोचा कि क्या ये वही लड़का है जो नेट पर सेक्सी बातें कर कर के ही मुझे फ़्री कर देता है। फ़िर वो मेरे करीब आया और उसने मुझे अपनी बाहों में ले लिया। एक पल के लिये मेरी सांसे थम गयी कि अब क्या होने वाला है मेरे साथ पर दूसरे ही पल मुझे अच्छा लगने लगा जब उसके लिप्स मेरे लिप से जा मिले उसके हाथ जब मेरे बूब्स को दबाने लगे तो मुझ पर नशा छाने लगा। और मैं उसकी भाहों में सिमटने लगी। उसके हाथों में जादू सा लगने लगा जो मुझे पागल करने लगा। तब मुझे लगा कि सिम्पल सा दिखने वाला ये लड़का कमाल का काम करेगा। फिर मैं भी उसका साथ देने लगी। उसको अपनी बाहों में कसने लगी उसके जादू भरे हाथ मेरे बदन पर फ़िरने लगे और मुझको बेहाल करने लगे।

पता नहीं उसमें क्या जादू था कि मैं बस बिखरती जा रही थी ।।मेरा मन कर रहा था कि बस मुझे फ़क कर दे जब वो अपने हाथ मेरे बदन के ऊपर से लेकर नीचे तक ले जता तो बस मेरे मुंह से आह्हह्हह्ह आअह्हह्हह्ह ऊउफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़ की आवाज़ ही निकलती। फ़िर उसने मेरे कपड़े उतारने शुरु किये तो मुझे कुछ पता ही नहीं चला कि कब मैं उसके सामने नंगी हो गयी।। क्योंकि उसके हाथों और उसके लिप्स के जादू में मानो मैं खो गयी थोड़ी देर तक मुझे पता ही नहीं चला कि वो मेरे बदन से अलग होकर मुझे नंगा देख रहा है। जब मैं होश में आयी तो मुझे पता चला तो मुझे बहुत शरम आने लगी। मैने उसको पास आने को कहा तो वो नहीं आया।

मैं पागल तो हो चुकी थी उसकी सो मैं ही नंगी उठकर उसको पकड़ने लगी। वो रूम में इधर उधर भागने लगा। पर उसने मुझे पागल कर दिया था सो मैं भी नंगी ही उसको पकड़ने लगी। जब उसने फ़िर मुझे अपनी बाहों में लेकर प्यार करने लगा तो मैं फ़िरसे मदहोश होने लगी फ़िर थोड़ी देर बाद मुझे होश आया तो मैने पाया कि अब वो भी नंगा है। मुझे तब पता चला जब प्यार करते करते उसने मेरा एक हाथ पकड़ कर नीचे ले जा कर अपना पेनिस मेरे हाथ में दे दिया। तब एक दम मुझे होश आया कि ये क्या है उसको देख कर मुझे थोड़ा डर लगने लगा कि मैं कैसे लूंगी इसको। पर मुझे नहीं पता था कि आगे क्या होने वाला है।

उसने मुझे फ़िर बेड पर लिटा कर मेरे पूरे बदन पर अपने लिप्स का जादू डाल दिया मैं उसके प्यार से पागल हो गयी थी। कब मैने उसके लिये अपनी लेग्स खोल दी मुझे पता ही नहीं चला। उसका गरम पेनिस जब मेरी चूत पर लगा तो एक पल के लिये मुझे होश आया पर थोड़ी देर बाद जब उसने अपने लिप्स मेरे लिप्स से मिला कर।

मुझे फ़क करने लगा तो बस मुझे पता ही नहीं चला कि कब उसका गरम लंड मेरी चूत में समा गया। जब वो मुझे फ़क करने लगा तो मुझे पता चला कि अब मेरा कुवारापन टूट गया है।।मैं तो ये सोचने लगी कि मुझे दरद क्युं नहीं हुअ। कब उसका मेरे अंदर चला गया पर मुझे पता ही नहीं चला। सच मियां ही इज़ ए नाइस प्ले इन सेक्स। उसके सेक्स स्टाइल ने मुझे इतना मस्त कर दिया कि मुझे दर्द का भी अहसास नहीं हुअ। उसके लिप्स और हैंडस में अच्छा जादू था सच में अगर कोइ लड़की सेक्स करने से डरती हो तो एस कुमार से मिलना चाहिये उसको सच में ऐसा पार्टनर मिल जाये तो सेक्स का डर भी छू हो जाये।

उस दिन से मेरा सेक्स से डर बिल्कुल भी दूर हो गया थोड़ि देर बाद वो फ़्री हो गया। मैं हैरान थी कि इश बीच मैं चार बार फ़्री हो चुकी हूं पर ये सिर्फ़ एक बार फ़्री हुआ है जब वो मुझसे अलग हुआ तो मैने देखा कि उसका लंड मेरे चूत के खून में नहाया हुआ है। देख कर मैं डर गयी पर मुझे अच्छा लगा कि मुझे दर्द का एहसास नहीं हुआ मैने उसको अपनी बाहों में लेकर प्यार करना शुरु किया।

सच में पता नहीं क्या जादुगर है वो फ़िर उसने ३ बार और फ़क किया मुझे। वो सिर्फ़ ३ बार ही फ़्री हुआ पर मैं ना जाने कितनी बार फ़्री हो चुकी थी। फ़िर थोड़ी देर बाद हम दोनो नहा धो कर बैठ गये और थोड़ी देर बाद वो चला गया। आज भी जब भी मुझे मौका मिलता है तो मैं उसको बुला लेती हूं और सेक्स का मज़ा लूटती हूं।।सच में वो इतने प्यार से करता है कि मुझे पता ही नहीं चलता। बस मैं खुद को हेवेन में पाती हूं। उसके चले जाने के बाद भी उसके हाथों और उसके लिप्स का जादू मेरे बदन पर छाया रहता है। हम दोनो रोज फोन पर सेक्स करते हैं। उसकी बातें सुन सुन कर ही मैं फ़्री हो जाती हूं और उसको रियल में करने के लिये बेताब। जब मौका मिलता है तो रियल करने में खूब मज़ा आता है। उसके कारण आज मैं हर पल खुश रहती हूं। मैं आपसे ये नहीं कहूंगी कि आप भी एस कुमार से सेक्स करवायें, क्योंकि मैं खुद उनके साथ सेक्स करके बहुत खुश होती हूं, फिर भी अगर एस कुमार चाहे तो आप भी उनके साथ एक बार सेक्स करके देखो खुद पता चल जायेगा कि वो कितने अच्छे फ़कर हैं.

Quote
Posted : 11/12/2010 6:05 am
Share: