दिल्ली वरजिन गर्ल क...
 

दिल्ली वरजिन गर्ल की चुदाई-२  

  RSS
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

तभी मैने उसे अपनी गोद में उठा लिया और बेड पर लिटा दिया और उसकी सलवार पैरों से आज़ाद कर दी। उसने सफ़ेद रंग की चड्ढी पहनी थी। वो शरमाके दूसरे तरफ देख रही थी। मैने अपना शर्ट उतारा बनियान निकाली और पैंट उतारी अब मैं उसके सामने सिर्फ़ अंडरवेयर में था और वो मेरे सामने सिर्फ़ एक छोटी सी चड्ढी में। मेरा लंड तो एकदम खड़ा हुआ था। मैं बेड पे उसके ऊपर लेट गया और उसके बूब्स दबाने लगा। मैने उसे कहा मेरा लंड टेस्ट करोगी उसने न कहा वो बोली "मुझे मुंह में नहीं लेना" मैं बोला "ठीक है तुम्हारी मर्ज़ी" और फिर एक हाथ नीचे ले जाके उसकी चूत सहलाने लगा। उसकी चड्ढी गीली हो चुकी थी। मैने हाथ फिर उसके चड्डी में डाल दिया तो वो सिहर गयी। मेरे हाथ को उसकी झांट के बाल लग गये। मैने उसे पूछा "कभी इसे साफ नहीं करती"। उसने गर्दन हिलाके न कहा। मैने एक उंगली उसकी चूत के छेद पे फेरने लगा वो आअह्हह्हह्हह ऊउफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़ आआआह्हह स्सस्सस्सीईईईई आआआह्हह करती रही मैने फिर वही उंगली उसके चूत में घुसेड़ने लगा वो फिर से चिल्लाने लगी मेरी पूरी उंगली उसकी चूत में चली गयी उसकी चूत काफी टाइट थी।

फिर मैं उंगली को अन्दर ही गोल गोल घुमाने लगा। वो सिर्फ़ आह्हह्हह्हह ऊउफ़्फ़फ़ ज़्ज़ज़्ज़ज़ूऊओरसीए कर रही थी। थोड़ी देर बाद मैने अपना हाथ उसके चड्ढी से निकाला। उसकी चड्ढी निकालने लगा वो शर्मा रही थी। मैने उसकी चड्ढी उसके पैरों से अलग कर दी और उसकी चूत देखने लगा। तभी उसने अपने दोनो पैर एक के ऊपर एक रख दिये और चूत छुपाने की कोशिश करने लगी मैने उसके दोनो पैर अलग कर के उसे पकड़ लिये। और मुझे उसकी चूत दिखने लगी, क्या चूत थी वो। एक दम कोरी चूत। चूत पूरी तरह से सील पैक थी। मैने फिर अपनी एक उंगली उसकी चूत में घुसा दी और उसके गुलाबी लिप्स पर अपने लिप्स रखकर किस करने लगा साथ ही साथ उंगली अन्दर बाहर करने लगा। वो एक दम पागल हो गई और मेरा हाथ पकड़ के ज़ोर ज़ोर से उंगली अन्दर बाहर करने लगी। थोड़ी देर में उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया और मेरा हाथ गीला कर दिया।

मैने सोच लिया यही सही टाइम उसे चोदने का क्योंकि उसकी चूत पूरी तरह से गीली हो गयी थी। मैने अपना अंडर वियर उतार दी मेरा खड़ा हुआ ९ इंच लम्बा लंड देख कर वो हैरान हो गयी और बोली मैं तो झूठ समझी थी पर तुम्हारा तो सच मुच बहुत लम्बा है मैं बोला डरो नही मेरा वादा है कुछ टाइम बाद तुम ही बोलोगी पूरा डालो जोर जोर से फ़िर पैंट से कन्डोम का पैकेट निकाला। मैने उसे कहा "ये कन्डोम है। कभी देखा है?" उसने गर्दन हिलाके न कहा।

मैने उसमें से एक कन्डोम बाहर निकाला और उसे कहा "देख लो इसे लंड पे कैसे चढ़ाते हैं अगली बार तुम्हें ऐसा वाला दूसरा कन्डोम मेरे लंड पे चढ़ाना होगा"। वो गौर से देखने लगी। मैने कन्डोम अपने लंड पे चढ़ा दिया मैने कल ही अपनी झांट के बाल साफ किये थे। फिर मैने उसकी दोनो टांगें घुटनों से मोड़ दी और पोसिबल हो सके उतनी फैला दी। अब उसकी चूत खुल चूकी थी। और उसकी दोनो टांगों के बीच उसके ऊपर आ गया। मैने अपना लंड एक हाथ से उसकी चूत पे रख दिया और उसकी चूत पे रगड़ने लगा। वो बूरी तरह पागल हो गयी और मुझसे कहने लगी "प्लीज़ जल्दी डाल दो वरना मैं मर जाउंगी। प्लीज़ जल्दी करो। फाड़ दो मेरी चूत इस लंड से प्लीज़।"

मैने एक जोर से धक्का मारा। वो तड़प उठी और चिल्लाने लगी उईइम्ममाआअ म्माआआर्रर्र ग्गग्गाआआअयययीई आआअह्हह्हह्ह मेरी स्सह्हह्हह्हहूत्तत्तत्तत प्पप्पप्पफाअत्त ग्गायययययीइ न्नन्नन्नीईक्कक्कक्काआआअल्लल्ललूऊऊओ ईस्ससी आआअह्हह्हह। फिर थोड़ी देर मेरा लंड ऐसे ही रख के एक और जोर से धक्का मारा वैसे उसकी सील टूट गयी और वो रोने लगी। वो चिल्ला उठी आआह्हह्हह प्लीज़ निकालो इससे मैं मर जाउंगी प्लीज़। वो तो शुक्र है कि मैने टीवी पहले ही तेज आवाज़ में ओन किया हुआ था वरना होटल वाले आ जाते, मैने कहा कुछ नहीं होगा ऐसे ही पड़ी रहो दर्द कम हो जायेगा हम दोनो थोड़ी देर ऐसे ही पड़े रहे उस वक्त मैं उसके बूब्स प्रेस कर रहा था। और दूसरा चूस रहा था

५ मिनट बाद वो अपनी गांड हिलाने लगी मैं समझ गया कि अब चूत चुदवाने को लंड के धक्कों का इन्तजार कर रही है मैं अपना लंड उसके चूत से अन्दर बाहर करने लगा। उसे भी अब मज़ा आ रहा था। वो भी अपनी गांड ऊपर नीचे कर के रिस्पोंस देने लगी। मैने फिर स्पीड बढ़ाते हुए जोर जोर से धक्के मारने लगा। वो चिल्ला रही थी। जिससे मुझे और भी मज़ा आ रहा था। थोड़ी ही देर में वो मुझसे लिपट गयी और उसने अपनी चूत से ढेर सारा पानी छोड़ दिया। लेकिन मेरा लंड अभी भी जोश में था।

फिर मैने उसको बोला कि अब मैं तुम्हें डोगी स्टाइल में चोदुंगा वो झट से डोगी बन गयी वाह पीछे से क्या शेप थी उसकी, बिना टाइम वेस्ट किये मैने उसकी चूत मैं अपना लंड रखा और जोरदार धक्का मारा एक हे धक्के मैं पूरा का पूरा ९ इंच लम्बा लंड उसकी चूत फाड़ता हुआ जड़ तक पहुंच गया वो चींखते हुई बोली ऊओईईईईईईई माआआअ, स्पर्श प्लीज़ आराम से फिर मैं धीरे-धीरे उसकी चूत मैं अपना लंड अंदर बाहर करने लगा कुछ देर बाद वो खुद पीछे की तरफ़ धक्के मारने लगी और बोलने लगी स्पर्श आज अपनी पूरी ताकत से मेरी चूत चोदो जो होगा देखा जायेगा

फिर क्या था मैं पूरे जोश के साथ उसकी चूत चोदने लगा और वो ऊओह्हह्ह, आआआअम्मम्मम्मम यीईस्सस्सस्सस,यययीईस्सस्सस्सस्सस्सस स्पर्श ययययययीईस्सस्सस्सस करीब १५ -२० मिनट के बाद मैने भी कंडोम में पानी छोड़ दिया और वो भी झड़ गयी फिर उसके पीछे ही उसके चूत में लंड डालके लेट गया। १० मिनट बाद मैने उसकी चूत से लंड निकाला और उसके ऊपर से उठ गया। और देखा तो उसके चूत से थोड़ा बहुत खून निकला था। खून और उसकी चूत ने चोदा हुआ पानी से उसकी चूत पूरी तरह से गीली हो चुकी थी। मैने अपने लंड से कंडोम उतारा और उसे अपनी बाहों में उठा के टोइलेट ले गया। वहाँ उसे बैठा के ठंडे पानी से उसकी चूत साफ करने लगा। उसकी चूत में उंगली डाल के साफ करने की वजह से मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया। मैं उसकी चूत साफ करके फिर उसे अपने बाहों में उठाया और बेड पे लाकर रख दिया। अब मेरा लंड मेरा पसंदीदा शोट मारने के लिये बेकरार था।

पैंट से मैने एक कंडोम निकाला और उसके हाथ में दे दिया और कहा "चढ़ा दो इसे मेरे लंड पे"। उसने उसमें से कंडोम बाहर निकाल के मेरे लंड पे रखा और उसे मेरे लंड पे चढ़ा दिया। मैने उसकी दोनो टांगे अपने कंधे पे रखी नीचे से मैने मेरा लंड उसकी चूत में पूरी तरह से घुसा दिया और उसकी बाहों में अपने दोनो हाथ डाल के उसे ऊपर उठाया। अब मैं खड़ा था उसकी दोनो टांगे मेरे कंधे पे थी और मेरे दोनो हाथ उसके पीठ के पीचे थे। वो पूरी तरह से बेंड हो चुकी थी मेरा लंड उसकी चूत में था। मैने अपनी थोड़ी सी पीठ सपोर्ट के लिये दीवर पे टच की और अपनी कमर आगे पीचे करने लगा। इस पोजिशन में मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी चूत में चला जा रहा था।

जब मैं प्रिया को इस तरह से चोदता तो मुझे दिवार का सपोर्ट लेने की जरूरत न पड़ती क्योंकि वो सिर्फ़ २२ साल की थी और उसका भार बहुत ही कम था। मेरा लंड उसकी चूत से अंदर बाहर हो रहा था। मैने उसे पूछा "मज़ा आ रहा है न?" उसने हाँ कहते हुए कहा "ऐसे ही चोदते रहो मेरे स्पर्श। मैं तुम्हारी दिवानी हो गयी हूँ। शादी के बाद भी मैं तुम्हीं से चोदवाउंगी और ज़ोर से चोदो फ़ाड़ डालो मेरी चूत को और कसके आअह्हह्हह्हह आआआआअह्हह्हह्हह्हह्हह"। २० -३० मिनट बाद मैने उसे बेड पे रख दिया और कुत्ते की तरह होने को कहा। उसने अपने दोनो हाथ जमीन पे रखे और घुटनो के बल वो कुत्ते की तरह हो गयी मैने उसके पैर थोड़े से फैला दिये और पीछे से मेरा लंड उसकी चूत मैं डाल दिया और मैं उसे डोग शोट मारने लगा। १५ मिनट बाद मैने पानी छोड़ दिया। इस दौरान वो दो बार झड़ चुकी थी।

मैने अपने लंड से कंडोम उतारा। दोपहर के १२ .३० बज गये थे। मैने उसे कहा कपड़े पहन लो खाना खाने चलते हैं। वो उठके बाथरूम चली गयी मैं भी उसके पीछे चला गया वो कहने लगी तुम बाहर जाओ मुझे पेशाब करना है मैने कहा उसमें इतनी शरमाने वाली क्या बात है और मैं उसके सामने पेशाब करने लगा। वो गौर से देख रही थी जैसे ही मेरी पेशाब खत्म हुयी वो बैठ गयी और पेशाब करने लगी। बड़ी जोर से धार मारी थी उसने। फिर वो खड़ी होके पानी से पैर और चूत पे गिरा हुआ पानी साफ करने लगी। हम दोनो बाथरूम से बाहर आ गये। मैने अपने कपड़े पहन लिये। उसने पहले अपनी चड्ढी पहनी फिर ब्रा। मैने उसके ब्रा के हुक लगा दिये। फिर उसने अपनी सलवार पैरो में चढ़ायी और लास्ट में उसने कमीज़ पहनी फिर उसने अपने बाल और कपड़े ठीक किये और हम खाना खाने के लिये चले गये। खाना खाने के बाद वो बोली एक बार और मैं बोला नहीं मुझे २ :२० तक कहीं काम से जाना है अब तुम घर जाओ और यह मेरा नम्बर रखो फिर फोन करना, हम दोनो ने एक दूसरे को अपने नम्बर दिये फिर वो मुझे किस करने एक कोने में ले गयी और मुझे किस किया और बोला प्लीज़ ज़ल्दी मिलना फिर वो वहाँ से चली गयी मैने होटल का बिल दिया और अपने काम से चला गया। सो फ़्रेंड्स कैसी लगी मेरी स्टोरी

Quote
Posted : 15/12/2010 8:56 am