बस मेरे लिए फ्री रह...
 

बस मेरे लिए फ्री रहना  

  RSS
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

मैं एक बार फिर से आपके सामने हाजिर हूँ अपनी एक आपबीती को लेकर ! मेरी पिछली कहानी कंप्यूटर की प्रॉब्लम आप सबने पसंद की इसके लिए सबका शुक्रिया !

मैं आप सबको एक बार फिर से अपने बारे में बता देता हूँ, मैं तीस साल का युवक हूँ, मेरा लंड किसी भी लड़की/औरत को खुश करने में अपनी शान समझता है। अब मैं आपको अपनी आपबीती बताता हूँ !
एक महिला नाम सोनिया (नाम मैंने बदल दिया है), जिसकी उम्र 28 साल थी, उसका मेल आया कि वह मेरी कहानी से बहुत प्रभावित हुई है और मुझसे मिलना चाहती है, उसने अपना बताया, वो पेशे से डॉक्टर है।

लेकिन हम दोनों अलग शहर में रहते हैं व हम दोनों ही पेशे में है तो हमारे बीच जगह की समस्या आई। लेकिन कुछ दिनों बाद ही मुझे अपने काम से दिल्ली जाना था तो उसे मैंने बताया तो वो भी वहाँ आने को मान गई। हम दोनों ने स्टेशन पर मिलने का कार्यक्रम बनाया।

मैं मन ही मन सोच रहा था कि पता नहीं वो दिखने में कैसे होगी !

मैं अपने समय पर दिल्ली पहुँचा, थोड़ी देर में वो भी वहाँ आ गई लेकिन जब मैंने उसे देखा तो लगा कि मैं कोई सपना देख रहा हूँ क्योंकि उसका फिगर आयशा टाकिया की तरह था - 32-28-32, वैसे ही मस्त वक्षस्थल और भरा हुआ बदन, कद 5'4" !

वो आई और हाथ मिला कर कहा- मैं सोनिया हूँ और आप सनी हो ना ?

मैं चुप रहा तो उसने कहा- क्या हुआ?

मैंने कहा- मुझ पर बम गिर गया !

वो हंसने लगी, फिर उसने कहा- क्या कार्यक्रम है ?

मैंने होटल में चलने का कहा तो उसने मना कर दिया और पार्किंग की तरफ चल दी। मैं भी उसके पीछे हो लिया।

कार में बैठने के बाद उसने कहा- अगर दिक्कत ना हो तो मेरी सहेली के घर चलते हैं क्योंकि उसके घर की चाबी मेरे पास है और मेरी सहेली वो भी डॉक्टर है काम के सिलसिले मैं बाहर गई है।

करीब एक घंटे में हम उस घर में पहुंचे जो एक शानदार फ़्लैट था। फ़्लैट में पहुँचने के बाद उसने कहा- अगर जल्दी ना हो तो आज की मुलाकात को एक यादगार मुलाक़ात बनाया जाए !

सच कहूँ दोस्तो, मैं उसकी किसी बात को मना ही नहीं कर पा रहा था, पता नहीं एक अजीब सा जादू हो गया था उसके रूप का मुझ पर !

एक पड़ी लिखी सभ्य यौन-साथी मिल जाये तो सेक्स का मजा दोगुना हो जाता है।

उसने कहा- अगर पहले फ्रेश हो जाएँ तो अच्छा रहेगा।

मैंने भी कहा- अगर साथ में फ्रेश हो तो ज्यादा अच्छा रहेगा !

उसने कहा- ठीक है !

वो मेरे पास आई और कहने लगी- चलो, साथ में नहाते हैं।

मैंने जैसे ही उसे छुआ तो वो कहने लगी- आज तीन साल बाद किसी आदमी ने मुझे हाथ लगाया है क्योंकि मेरे पति की एक दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी।

हम दोनों ने एक दूसरे के कपड़े उतारे लेकिन पूरे नंगे नहीं हुए। बाथरूम में जाकर शावर के नीचे नहाए। हालाँकि वहाँ हम दोनों ने एक दूसरे के बदन को नहलाया लेकिन हम दोनों ने वहाँ पूरे संयम से काम लिया। नहा कर हम कमरे में आये, वो सिर्फ ब्रा पेंटी और मैं अंडरवियर ही पहने था।

यह सब करते हुए ग्यारह बज गए थे। मुझे सेक्स तो करना था लेकिन हमें जल्दबाजी में कुछ नहीं करना चाहते थे। वो रसोई में गई और जूस के साथ नाश्ता ले कर आई तो मैंने कहा- फ्रेश दूध के होते हुए जूस की क्या जरुरत है !

तो वह सिर्फ मुस्कुरा दी, उसने कहा- कुछ देर बाद बिस्तर से नहीं उठने दूँगी इसलिए बाकी के काम ख़त्म कर लो !

हम दोनों एक दूसरे के पास बैठकर नाश्ता करने लगे। इधर उधर की बात करते हुए हमने नाश्ता ख़त्म किया। अब हम दोनों आज़ाद थे, वो बिस्तर पर आई और मेरे करीब आई। अब मैंने उसे अपनी छाती से लगा लिया। एक अजीब से गर्मी का एहसास हुआ मुझे !

अब मैंने उसके होंठों का रस पीना शुरू किया वो भी इस रसपान का मजा लेने लगी। धीरे धीरे मैं अपने हाथों से उसकी ब्रा के ऊपर से उसके स्तनों को हलके से मसलने लगा। उस पर एक अजीब सी मदहोशी छाने लगी, उसने कहा- मैं तीन साल से प्यासी हूँ ! आज मुझे अपनी प्यास बुझानी है !

मैंने उसकी ब्रा खोल दी। वो मुझे बिस्तर पर लिटा कर मेरे ऊपर बैठ गई और अपने रसभरे दूध का रस पिलाने लगी। मेरा लंड तो खड़ा हो ही चुका था जिसका एहसास उसे भी हो रहा था। वो ऐसे ही मेरे लंड को अपने चूत पर पैंटी के ऊपर से रगडती रही और अपना दूध पिलाती रही।

अब मैंने उसकी पैंटी के अन्दर भी अपनी उंगली घुमानी शुरू कर दी। अब उसकी बर्दाश्त से बाहर हो रहा था, वो कहने लगी- सनी, अब पूरी प्यास बुझा दो !

लेकिन मैंने कहा- अभी रुको ! अभी तो बहुत कुछ बाकी है !

लेकिन उसने कहा- मैं आज तुम्हारी हूँ ! सब करना लेकिन अभी तुरन्त चूत में डालो !

मैंने उसकी और अपनी चड्डी उतार दी और उसको लिटाकर उसकी दोनों जांघों के बीच में आ गया। मैंने उसकी चूत में अपनी जीभ लगा दी, ऐसा लगा कि मैंने किसी तपती हुई चीज को छू लिया !

वो तड़प उठी !

मैंने भी देर ना करते हुए अपने लंड को उसके चूत के मुँह में रखा और हल्का सा धक्का मारा। लेकिन उसकी चूत बहुत कसी हुई थी इसलिए आसानी से नहीं गया। मैंने जोर लगा कर धक्का मारा तो मेरा आधा लंड अन्दर जा चुका था।

उसके मुँह से आह निकल गई, मैं समझ गया कि यह सचमुच बरसों की प्यासी है !

मैं उसी हालत में उसके होंठों को चूसने लगा और हाथों से उसके स्तन दबाने लगा। थोड़ी देर में ही वो खुद धक्के लगाने लगी। मैंने भी एक और धक्के के साथ पूरा लंड उसकी चूत में अन्दर कर दिया। अब वो मेरा साथ देने लगी। पांच मिनट में ऐसा लगा कि उसने एक तेज धार के साथ अपना रस निकाल दिया। अब मैंने भी तेजी से करना शुरू किया। थोड़ी देर में मैं भी खाली हो गया और ऐसे ही उसके ऊपर लेट गया।

उसने मुझे होंठों पर चूमा और कहा- आज मैं पहली बार इतनी जल्दी झड़ी हूँ !

मैंने कहा- अभी तो तुमने सिर्फ चूत में मेरे लंड का स्वाद लिया है !

वो मेरा मतलब समझ गई। कुछ देर बाद उसने मुझे लिटा कर मेरे पूरे बदन को चूमा, फिर मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी। मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया।

सोनिया ने कहा- अब मैं सवारी करुँगी !

उसने मेरे लंड को अपने हाथ से चूत के मुँह में रखा और धीरे धीरे उसे पूरा अपनी चूत में छुपा लिया। धीरे धीरे उसने मेरे लंड को अन्दर-बाहर करना शुरू किया। करीब बीस-पच्चीस मिनट के बाद हम दोनों खाली हो गए।

उसने कहा- अब मैं खुश हूँ !

मैंने उसकी गांड की तरफ इशारा किया तो उसने मना कर दिया और कहा- मैं इस ख़ुशी को दर्द में नहीं बदलना चाहती !

मैंने भी उससे जबरदस्ती नहीं की क्योंकि मेरा मानना है कि प्यार से करो तो मजा आता है वरना नहीं !

उसने पूछा- तुम्हें वापस कब जाना है?

मैंने कहा- अब आज तो मेरा काम नहीं हो पायेगा तो कल ही जा पाऊंगा।

उसने कहा- अगर तुम जाना भी चाहते तो भी मैं तुम्हें नहीं जाने देती !

इसके बाद हम लोग घूमने निकल गए और डिनर करके वापस आये। हमने उस रात हमने तीन बार सम्भोग किया।

अगले दिन सुबह उठ कर नहाकर हम अपने काम के लिए जाने लगे तो उसने कहा- एक बार प्यार करना है !

हमने एक बार फिर वही प्यार का खेल खेला लेकिन उसके बाद हम दोनों को फिर से नहाना पड़ा, मतलब कि एक दूसरे को नहलाना पड़ा !

जब मैं तैयार हो रहा था तो उसने मुझे दस हजार रूपये का बण्डल दिया। मैंने उसे कारण पूछा तो कहने लगी- तुम्हें जो एक दिन का नुकसान हुआ !उसके लिए मेरे मना करने के बाद भी वो नहीं मानी, उसने वो बण्डल मेरे बैग में रख दिया। जब उसने मुझे अपनी कार से छोड़ा तो कहा- तुम कुछ भी काम करो, कहीं भी करो लेकिन मेरे लिए फ्री रहना ! मैं जब भी अपने शहर से बाहर जाऊँगी तो तुम्हें बता दूंगी और तुम्हें आना पड़ेगा !

मैंने भी उसे एक प्यारी सी किस देते हुए उसे आने का वादा किया।

जब मैंने उसे पूछा- अपनी सहेली से फ्लैट क्या कह कर लिया?

तो उसने बताया- मैंने उसे सब बता दिया था। और मेरी सहेली भी मुझसे मिलना चाहती थी लेकिन काम के कारण नहीं मिल पाई।

उसने कहा कि अगली बार वो दोनों साथ में मिलेंगी मुझे !

बात करते हुए मैं वहाँ पहुँच गया था जहाँ मुझे आपने आफिस का काम था। मैंने उसे एक चुम्बन देकर विदा किया इस वादे के साथ कि फिर जल्दी मिलेंगे !

इसके एक महीने के बाद उसने मुझे काल किया मिलने के लिए उसी जगह पर लेकिन इस बार सहेली के साथ !

वो कहानी अगली बार ! मेरी आपबीती पर अपने विचार बताएँ !

Quote
Posted : 15/02/2011 6:31 am