मेरी सेक्सी पड़ोसन ...
 

मेरी सेक्सी पड़ोसन राखी  

  RSS
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

मैं पहले अपने बारे में बताता हूँ ! मेरा नाम सुमीत है, मेरी उम्र 30 साल की है, फ़रीदाबाद में रहता हूँ, मेरी शादी हो चुकी है।

आज मैं आपको अपने साथ बीती हुई एक घटना बताता हूँ।

मेरे घर के सामने एक बहुत ही सुन्दर लड़की रहती है, उसका नाम है राखी, उम्र होगी उसकी करीब 20 साल, रंग बिलकुल गोरा और स्लिम और सेक्सी बदन, सीने पर छोटे-2 गोल स्तन पूरा उभार लिये हुए, होंठ बिल्कुल गुलाब, वो जब चलती थी तो पीछे से उसके गोल-गोल नितम्ब बहुत ही सेक्सी लगते थे।

उसका हमारे घर पर खूब आना जाना था, वो मेरी पत्नी को भाभी कहती थी। वो जब भी हमारे घर आती थी तो मेरी नजर उसकी चूचियों पर होती थी, वो भी समझ जाती कि मेरी नजरें उसकी चूचियों पर है और वो मुझे देख कर एक मुस्कान दे जाती।

मेरा ऐसा दिल करता कि उसको पकड़ लूँ और अपने बाहों में भर कर चोद डालूँ ! यह अहसास होते ही मेरा लन्ड मेरी पैन्ट में अकड़ जाता और फ़िर रात को मैं राखी को अपने मन में रख कर अपनी बीवी की चुदाई ऐसे करता जैसे राखी मेरे सामने नंगी पडी हो और मैं राखी की चुदाई कर रहा हूँ।

एक रात मैं अपने घर की छत पर टहल रहा था तो मैंने देखा कि राखी अपनी छत पर थी। मैंने देखा कि उसने अपनी सलवार का नाड़ा खोला और पेन्टी नीचे कर के नाली पर मूतने बैठ गई। मुझे बस पीछे से उसकी गोरी गाँड नजर आई जिसे देख कर मेरा लन्ड फ़िर से तन गया। जब वो उठी तो अचानक उसकी नजर मेरे ऊपर पड़ी और वो शरमा कर नीचे चली गई और फ़िर उस रात को मैंने अपनी पत्नी की राखी समझ कर जम कर चुदाई की।

कुछ दिन तक तो शर्म के मारे वो हमारे घर पर नहीं आई, परन्तु एक बार मैं जब ओफ़िस से घर जा रहा था तो मेरी नजर राखी पर पड़ी, वो झेंप सी गई और मैं जानबूझ कर उस से टकरा गया। उस दिन पहली बार उसके जिस्म से छू जाने से मेरे शरीर में आग सी लग गई।

बस यही सोचता कि राखी की चूत कैसे मिले।

पर जहाँ चाह होती है वहीं राह भी निकल आती है, हुआ ऐसे कि मेरी बीवी मायके गई हुई थी, मैं ओफ़िस से सीधा घर गया, और फ़्रेश होने के लिये बाथरूम में चला गया, बाहर से दरवाजा खुला हुआ था, मुझे बाथरूम में किसी के आने की आहट सी हुई, मैंने बाहर झांक कर देखा तो सामने राखी मेरे बेडरुम में चली आई थी। मैं मन ही मन बहुत खुश हुआ कि आज मौका है शायद मेरा काम बन जाये। मैं जान बूझ कर ऐसे ही अनजान बन कर अचानक तौलिया लपेटे हुए बाहर आ गया। मैंने देखा कमरे में टीवी चल रहा था और उस पर एक ब्लू फ़िल्म चल रही थी, जो शायद मैं बाथरूम जाते हुए बन्द करना भूल गया था। फ़िल्म में बहुत ही गरम सीन चल रहा था जिसमें एक लड़का लड़की की चूत को अपनी जीभ से चाट रहा था।

राखी इस सीन को देखकर इतनी गरम सी हो उठी थी कि उसका एक हाथ उसकी चूत को मसलने लगा, उसको पता भी नही चला कि मैं बाथरूम से बाहर आ गया हूँ।

फ़िर अचानक मेरा पैर स्टूल से टकरा गया और उसका ध्यान मेरी तरफ़ गया, उसका चेहरा लाल हो गया।

उसने मुझसे पूछा- भाभी कहाँ है?

मैंने कहा- वो तो अपने मायके गई है !

तो वो जाने लगी, तो मुझे लगा ऐसे तो सारा काम बिगड़ जायेगा। मैंने हिम्मत करके उसका हाथ पकड़ लिया, और उसके माथे को चूम लिया, उसकी नजर तौलिये में उठे हुए लन्ड पर पड़ी।

मैने कहा- प्लीज ! राखी ! मत जाओ न ! और उसको बाहों में भर लिया।

वो थोड़ा कसमसाई, और अपने को छुड़ाने लगी, मैं घबरा गया कि यह कहीं किसी को मेरे बारे में बता न दे, पर ऐसा कुछ नहीं हुआ।

उसने बताया कि आज उसका सारा परिवार शादी में गया है और कल वापिस आयेंगे, वो तो मेरी पत्नी को अपने साथ सुलाने के लिये आई थी।

मैंने कहा- तुम ऐसा करो कि आज की रात यहीं पर सो जाओ, मैं भी अकेला हूँ !

और वो मान गई, उसने कहा "मैं भी चाहती हूँ कि कोई मेरी चूत को अपने तगड़े लन्ड से चोदे ! मैं भी आपसे चुदना चाहती थी, आप को देख कर मेरी चूत भी बहुत बार पानी छोड़ चुकी है और मुझे अपनी उंगली से काम चलाना पड़ता था !"

यह सुन कर मेरी खुशी का तो कोइ ठिकाना नहीं रहा।

कमरे में अभी तक फ़िल्म चल रही थी जिसे देख कर राखी का तन बदन जलने लगा और मेरे पास आ कर मुझसे लिपट गई, उसकी चूची मेरी छाती से दबने लगी। उसने मेरा तौलिया उतार फ़ेंका और मेरे लन्ड को अपने हाथों से रगड़ने लगी। मैंने भी उसके बूब्स दबा दिये, उसकी सलवार की डोरी खींच डाली और उसकी सलवार उसके पैरों में गिर पड़ी, मैं उसकी चिकनी जाँघो को सहलाने लगा, और उसकी पेन्टी के उपर से ही चूत को मसलने लगा।

उसका बदन मानो कामाग्नि में जल रहा था, उसने कहा " प्लीज ! सुमीत ! कुछ करो न मुझे कुछ हो रहा है !

मैंने उसको अपने बेड पर लिटा दिया, और उसके सारे कपड़े उतार कर बिल्कुल नंगा कर दिया, उसके नंगे बदन को देख कर मेरा लन्ड बेकाबू हो गया, मैंने उसकी चूची के अग्र भाग पर अपनी जीभ फ़िराई और चूसने लगा। उस को बहुत मजा आने लगा और मेरे लन्ड को तेज तेज हिलाने लगी। मैं उसके सारे शरीर को चूमने लगा, पहले मैंने उसके सर को किस किया और फ़िर आँखो को फ़िर होठों को और ऐसा करते हुए उपर से नीचे चूमते हुए आने लगा।

जैसे ही मेरा मुँह उसकी चूत के ऊपर वाली जगह पहुंचा, वो सिमट ग़ई, मेरी नजर उसकी चूत पर पड़ी। उफ़्फ़ क्या मस्त चूत थी, बिल्कुल मुलायम और सुर्ख गुलाबी ! चूत के ठीक ऊपर हल्के हल्के काले रंग के बाल, गुलाब की पन्खुडियों की तरह चूत के छेद के आस पास मस्त उभार और उनके बीच एक पतली सी लकीर जैसी दरार और चूत की दरार के नीचे छोटा सा मस्त गुलाबी छेद, मैं उसकी चूत को देखकर व्याकुल हो उठा और अपने आप ही मेरे होंठ उसकी चूत से चिपक गये।

मैंने जैसे ही अपनी जीभ से उसके छेद को कुरेदा, राखी ने अपनी चूत उठा कर मेरे मुँह से सटा दी। उसकी चूत से भीनी भीनी सी महक आ रही थी। मैं उसकी चूत को चाटे जा रहा था। अचानक मैंने अपनी जीभ उसकी चूत में घुसा दी, और उसको अन्दर से चूसने लगा।

मैंने राखी से अपने लन्ड को मुँह में लेने को कहा। पहले तो वो नहीं मानी पर मेरे जोर देने पर वो मान गई और मेरा लन्ड अपने मुँह में ले लिया और चूसना शुरु कर दिया। अब मैं राखी के साथ 69 की पोजिशन में आ गया। मेरा लन्ड उसके मुँह में था और उसकी चूत मेरे सामने थी। मैंने फ़िर से उसकी चूत को चाटना शुरु कर दिया, अपनी जीभ मैं उसकी चूत में घुमा रहा था, अचानक मैंने अपनी जीभ उसके चूत के दाने पर लगाई और कस कर चूस दिया। राखी के मुँह से सीत्कार निकल गई "उईई …… माँ……… और…… चूसो… न…… ।"

और ऐसा कहते हुए मेरे लन्ड को जोश में अपने मुँह में अन्दर बाहर करने लगी।

मैं लगातार उसकी चूत का स्वाद ले रहा था और करीब 10 मिनट के बाद उसने अपनी चूत मेरे चेहरे पर कस दी और रगड़ने लगी। और फिर मुँह से अजीब सी आवाजें निकालने लगी, " उईईईईईईईईईई……… उम्म्म्म्म्म् ………… आह्ह्ह्ह्ह्ह्……मेरी……चूत……में कुछ हो रहा है !"

और अपनी चूत मेरे मुँह पर रगड़ने लगी और फ़िर कस के अपनी चूत मेरे मुँह पर कस दी और उसका शरीर अकड़ने लगा और फ़िर शान्त हो गई।

मेरे चेहरे पर कुछ गरम गरम सा द्रव रिसने लगा, वो उसकी चूत का अमृत-रस था जो कि उसके झड़ने से उसकी चूत में से रिस रहा था। इतना झड़ी थी वो कि मेरा सारा मुँह उसके चूत-रस से भर गया था, नमकीन स्वाद लिये बहुत ही स्वादिष्ट रस मलाई थी जो उसकी चूत से अभी अभी निकली थी। मैं उसको बहुत ही स्वाद से चाटने लगा और मैंने अपनी जीभ उसकी चूत में डाली और सारी रस मलाई साफ़ कर दी।

अब मैं भी झड़ने वाला था, मैंने कहा," राखी मैं भी झड़ने वाला हूँ !"

तो उसने कहा- मैं भी तुम्हारे लन्ड का स्वाद चखना चाहती हूँ !"

मैंने उसके सर को पकड़ा और उसके मुँह में अपने लन्ड को पेलने लगा और फिर एक झटका मेरे लन्ड ने उसके मुँह में लिया और उसके गले तक अपने वीर्य की एक तेज पिचकारी छोड़ दी, और उसका सारा मुँह मेरे गरम गरम वीर्य से भर गया। राखी ने भी बड़े अन्दाज से मेरे सारे वीर्य को निगल लिया।

मैंने पूछा,"मेरे लन्ड का रस कैसा लगा?"

उसने कहा,"बहुत ही स्वादिष्ट था, मैंने पहली बार यह चखा है !"

फ़िर कुछ देर बाद उसने कहा," मेरी जान ! मेरी चूत तो अभी भी प्यासी है, इसकी प्यास भी तो बुझाओ, बहुत ही तंग करती है, मुझे ! बहुत ही खुजली मचती है इसमें ! बस अब मेरी चूत में अपना लन्ड डाल कर कस कर चोद डालो !"

Quote
Posted : 21/02/2011 6:10 am
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

फ़िर कुछ देर बाद उसने कहा," मेरी जान ! मेरी चूत तो अभी भी प्यासी है, इसकी प्यास भी तो बुझाओ, बहुत ही तंग करती है, मुझे ! बहुत ही खुजली मचती है इसमें ! बस अब मेरी चूत में अपना लन्ड डाल कर कस कर चोद डालो !"

और ऐसा कहकर वो लेट गई और मेरे लन्ड को अपनी चूत के योनि-द्वार पर रगड़ने लगी और जैसे ही उसकी कोमल चूत का स्पर्श मेरे लन्ड पर हुआ, फ़िर से 8" का लम्बा हो कर सलामी मारने लगा। मेरा लन्ड भी उसकी चूत के लिये बहुत ही व्याकुल था, क्युँकि बहुत तड़पा था राखी की चूत के लिये।

मैंने कहा," देखा जान ! कैसा फ़ुदक रहा है तुम्हारी चूत के लिये !"

फ़िर मैंने राखी को बेड पर सीधा लिटाया और मैं उसके उपर आ गया। अपने लन्ड को उसकी चूत के गुलाबी छेद पर रखा और अन्दर डालना शुरु कर दिया, उसकी चूत बहुत ही टाईट थी इस लिये मेरा लन्ड उसकी चूत में मुश्किल से जा रहा था, लेकिन कुछ जोर लगाने से सारा अन्दर घुस गया मुझे लगा कि उसकी चूत की सील पहले ही किसी ने तोड़ी हुई है।

मैने उससे पूछा,"क्या आज से पहले कभी सेक्स किया है?"

तो उसने कहा," हाँ ! एक बार मेरे मामा का लड़का हमारे घर में आया था और रात को वो हमारे कमरे में सोया था तो रात को मेरे करीब आया, उसने मुझे नंगा कर दिया और अपने लन्ड को मेरी गीली चूत के पास लाया और मेरी चूत पर मसलने लगा। मुझे बहुत ही मजा आने लगा था इसलिये मैं उसके लन्ड को अपनी चूत में घुसाने लगी, जैसे ही उसका लन्ड मेरी कुंआरी चूत में गया मुझे बहुत दर्द हुआ था और मेरी चुत में से खून निकलने लगा। फ़िर वो मेरी चूत में कुछ देर तक हिला और जल्दी ही झड़ गया। और वो जाकर सो गया, मेरा मजा अधूरा ही रह गया और उस रात को मैंने अपनी चूत को अपनी उन्ग्लियों से शान्त किया !"

"लेकिन आज आप मेरी चूत को ऐसे चोदना कि इस साली को चैन पड़ जाये !"

मेरे लन्ड ने उसकी चूत में अपने लिये जगह बनाई और पूरा का पूरा 8" का अन्दर समा गया। मैंने धीरे-धीरे उसकी चूत की चुदाई शुरु कर दी। अब वो जन्नत में थी, चिल्लाई," और अन्दर तक डाल दो !"

मैं समझ गया कि उसकी चूत बहुत ही चुदासी हो उठी है।

उसने अपने कूल्हे ऊपर उठाये और मेरे लन्ड को अपनी चूत में और गहराई तक समा लिया। मेरा लन्ड काफ़ी मोटा और तगड़ा था जिससे मेरे लन्ड पर उसकी चूत कसी हुई थी। जैसे ही मैं अपना लन्ड बाहर निकालता उसकी चूत के अन्दर का छल्ला बाहर तक खिंच कर आता और लन्ड के साथ अन्दर चला जाता।

मेरा लन्ड उसकी चूत को अन्दर तक पेल रहा था। कुछ देर तक ऐसे चोदने के बाद मैंने एक तकिया उसकी गाँड के नीचे लगा दिया जिससे उसकी चूत ऊपर उठ गई और चूत का छेद थोड़ा सा खुल गया और अपना लन्ड उसके योनि-द्वार पर रखा और कमर को एक झटका दिया, मेरा पूरा लन्ड उसकी चूत को चीरता हुआ अन्दर के आखिरी हिस्से पर जा टकराया। राखी उत्तेजना में भर गई, मेरे सीने से चिपक गई और उसके मुँह से निकल पड़ा," ओह्ह्ह्………हाय्…………अब……मजा मिला है ! आपका लन्ड मेरी चूत के आखिरी हिस्से को रगड़ रहा है, बस ऐसे ही मुझे चोद डालो !"

मैंने उसकी दोनों टाँगों को ऊपर उठाया और उसकी चूत में लन्ड तेज रफ़्तार से आगे पीछे करके लगा। मेरा लन्ड उसकी चूत में रफ़्तार पकड़ चुका था। मैं उसके ऊपर छाया हुआ था और मेरे होंठ उसके रसीले होंठों को चूस रहे थे। राखी की कामोत्तेजना इतनी तीव्र थी कि उसका सारा शरीर तप रहा था, उसने उन्माद में अपनी दोनों आँखें बन्द कर रखी थी और उसका शरीर मछली की तरह तड़प रहा था।

जैसे ही मेरा लन्ड उसकी चूत में जाता, वो अपनी कमर उठा कर लन्ड को अन्दर तक समा लेती, मेरे लन्ड के हर प्रहार का जबाव वो अपने चूतड़ उठा उठा कर दे रही थी। मेरे बेडरूम का वातावरण राखी की चुदाई से गरम हो रहा था, कमरे में उसके मुँह से उत्तेजना भरी आवाजें गूंज रही थीं," आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ! उईईईईई………उम्म्म्म्म्म्म्……… ।आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्……… ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्…… चोद ! मुझे ! कस कर ! हाँ ………और तेज ! जोर जोर से चोद मुझे ! अन्दर तक पेल दे अपने लन्ड को ! फ़ाड डाल मेरी चूत को ! बहुत मजा आ रहा है। और चोद , कस कर चोद, सारा लन्ड डाल कर पेल ! मेरी चूत बहुत ही तंग करती है मुझे ! आज इसको शान्त कर दो अपने लन्ड से ! बहुत दिन बाद चूत की खुजली मिट रही है ! हाँ और तेज ! और तेज ! उईईईईईईइ………आआआअहाआअ………उह्ह्ह्ह्ह्ह्… ह्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्……………ओफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्……………हाँ…………"

और राखी का पूरा जिस्म अकड़ गया और उसने मुझे नीचे कर दिया और खुद मेरे ऊपर आ गई और मेरे लन्ड को अन्दर लिये हुए चूत को रगड़ने लगी और उसने जिस्म को अकड़ाया और रुक गई। उसकी चूत इतनी गरम हो उठी कि मेरा लन्ड पिघलने लगा, और वो चुदाई के आखिरी पड़ाव पर आ गई और झड़ गई। मेरा लन्ड उसकी चूत के तरल द्रव्य से सराबोर हो गया। वो पहली बार इतना स्खलित हुई कि उसकी चूत से गरम गरम रस रिसने लगा और मेरी जांघों पर टपकने लगा।

उसके चेहरे पर सन्तुष्टि का भाव साफ़ नजर आ रहा था, लेकिन मैं अभी जल्दी झड़ने वाला नहीं था और मैं उसको लगातार ऐसे ही चोदे जा रहा था। अब उसकी चूत उसके स्खलित होने से लिसलिसा उठी थी और मेरा लन्ड उसकी चूत को घपाक से चोद रहा था, घच-घच की आवाज उसकी चुदाई से कमरे में गूंज रही थी।

मैंने राखी को घोड़ी की तरह पोजिशन में लिया और पीछे से लन्ड उसकी चूत में पेल दिया। इस बार मेरा पूरा लन्ड उसकी चूत में आसानी से चला गया और मैं उसको उसी पोजिशन में चोदने लगा।

कुछ देर बाद राखी फिर से झड़ गई। मैं लगातार उसको चोद रहा था, वो भी कमर आगे पीछे करके चुदाई का मजा लेने लगी। उसकी गाँड का भूरा छेद मेरे सामने था, मैं एक उन्गली से उसकी गाँड को भी मसल रहा था। मैंने अपने दोनों हाथों से उसकी चूची पकड़ ली और उनको दबाने लगा। मैं मानो राखी को चोदते हुए स्वर्ग में आ गया था और मैं कस कर रफ़्तार से तेज तेज चोदने लगा। उसके नितम्ब मेरी जांघों से टकरा रहे थे। 10 मिनट के बाद मुझे अहसास हुआ कि मैं भी स्खलित होने वाला हूँ।

मैंने राखी से पूछा तो उसने कहा,"मेरी चूत में ही भर दो तभी इसकी आग शान्त होगी !"

मेरे मुँह से कराह निकली और मेरे लन्ड ने गरम गरम वीर्य से उसकी चूत को भर दिया। मैंने चुदाई तब तक चालू रखी जब तक मेरे लन्ड में से वीर्य की आखिरी बूँद उसकी चूत में न निकल गई और उसी समय राखी भी फ़िर से झड़ ग़ई।

मैंने अपना लन्ड बाहर निकाल लिया। हम दोनों निढाल होकर बेड पर पड़ गये, उसकी चूत में से मेरा और उसका रस मिश्रित हो कर रिस कर उसकी जांघों पर आ गया।

कुछ देर बाद मेरा लन्ड फिर से खड़ा हो गया और उस रात को मैंने राखी को दो बार और चोदा।

चुदाई के बाद राखी ने कहा,"आज आपने मेरी चूत की वर्षों की आग को शान्त किया है, ऐसा मजा जिन्दगी में पहली बार मिला है !"

फ़िर उसने मुझे गुड नाइट किस किया और हम दोनों थक कर सो गये। सुबह होते ही वो अपने घर चली गई।

ReplyQuote
Posted : 21/02/2011 6:11 am