हवाई जहाज में चुदाई
 

हवाई जहाज में चुदाई  

  RSS
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

चोदोचुदो डॉट कॉम के सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्ते ! हर व्यक्ति की जिन्दगी में कुछ ऐसे हसीन पल आते हैं, जिन्हें याद कर वह प्रसन्नता का अनुभव करता है। ऐसा ही एक खुशनुमा अनुभव मैं आपके साथ बांटना चाहता हूँ।

मैं एक कम्पनी के अन्तर्राष्ट्रीय विभाग में मार्केटिंग का कार्य देखता हूँ। हालांकि मैं एक इन्जीनियर हूँ किन्तु मुझे घूमना-फिरना व नये-नये लोगों से मिलना बहुत अच्छा लगता है, अतः मैंने जीवन-यापन के लिये मार्केटिंग का कार्य पसन्द किया। इस कम्पनी से पहले मैं जिस कम्पनी में था, उसके कार्य से मैंने पूरा भारत कई कई बार घूमा है, अतः उसमें मुझे बोरियत होने लग गई थी। अब मैं कुछ नया चाहता था, जब मुझे इस नई कम्पनी में मुझे अन्तर्राष्ट्रीय मार्केटिंग विभाग में ऑफर मिला तो मैं बहुत खुश हुआ कि चलो दुनिया देखने को मिलेगी। अल्प समय में ही मैंने अपने बॉस को अपने बेहतरीन कार्य से खुश कर लिया, उसके फलस्वरुप मैं अब तक दुनिया के सभी महाद्वीपों में 35 से ज्यादा देश घूम चुका हूं। कुल मिलाकर एक शानदार जिन्दगी जी रहा हूँ।

लगभग तीन वर्ष पूर्व एक ऐसी यादगार घटना हुई जो मैं कभी भूल नहीं सकता हूँ।

हुआ यह कि एक कार्य के सिलसिले में मुझे बर्लिन जाना था। तो मैंने अपना विमान नई दिल्ली स्थित इन्दिरा गान्धी इन्टरनेशनल एयरपोर्ट से ही लिया। हर बार विदेश आते समय मैं एक ही तरीका अपनाता हूँ कि किसी भी देश जाना होता है तो मैं यात्रा के मध्य में एक बार अपनी फ्लाईट ट्रान्सफर जरूर करता हूँ ताकि उस नये देश में रुक कर उस नगर को भी देखता चलूँ। इस प्रकार एक नये देश, नई संस्कृति को लगभग निशुल्क देखने का मौका मिल जाता है। इस बार यदि मैं चाहता तो बर्लिन जाने के लिये जर्मन एयर लाइन लुफ्तहन्सा से भी जा सकता था, लेकिन मेरा मन तुर्की के खूबसूरत शहर इस्तन्बुल को देखना का हो रहा था, अतः मैंने अपना टिकट टर्किश एयर लाईन से बुक कराया ताकि मैं इस्तन्बुल होकर बर्लिन जा सकूँ।

इस्तन्बुल के लिये मेरी उड़ान का समय सुबह के चार बजे था, किंतु मैं रात लगभग बारह बजे ही एयरपोर्ट पहुँच गया क्योंकि होटल में मुझे नींद नहीं आ रही थी तो मैंने सोचा कि इससे तो एयरपोर्ट पर ही चलकर समय बिताउँगा, क्योंकि वहाँ का नजारा बहुत रंगीन होता है।

मैं एक जगह बैठ कर देशी-विदेशी लड़कियों को देख कर नयन-सुख का आनंद ले रहा था। यदि कोई लड़की पसंद आ जाती तो उसका चक्षु चोदन भी कर लेता था। अब बैठे बैठे और कर भी क्या सकता था। नई दिल्ली से इस्तन्बुल का यात्रा समय लगभग आठ घंटे का था। अब इंतजार करते करते मैं भगवान से यही खैर मना रहा था कि बगल में कोई जवान विदेशन बैठा देना। लेकिन मेरे पुराने अनुभवों को देखकर ऐसा लगता था कि हो सकता है कि कोई सत्तर वर्ष की देशी बुढ़िया आ जाये। लेकिन समस्या यह थी कि यहाँ मेरी कोई मर्जी नहीं चल सकती थी क्योंकि बोर्डिंग पास बनाने वाले लोगों से तो मेरी कोई जान पहचान तो थी नहीं !

तभी मेरे दिमाग में एक ख्याल आया। अन्तर्राष्ट्रीय यान छुटने के लगभग तीन घंटे पहले एयरलाइन के काउंटर शुरु हो आते हैं। तो मैं करीब एक बजे टर्किश एयर लाईन के काउंटर के पास में एक तरफ हट कर खड़ा हो गया ताकि उस यान से जाने वाले यात्रियों पर नजर रख सकूँ।

लगभग पौने घंटे तक खड़े रहने के बाद मेरी हिम्मत भी जवाब देने लगी क्योंकि मेरी मनपसन्द कोई लड़की या औरत अकेली आती नहीं दिख रही थी। मैं निराश हो चला था कि तभी अचानक मेरा दिल व दिमाग दोनों की घंटियाँ बजने लग गई। एक बेहद खूबसूरत ब्लांड विदेशन लाईन में लगने की ओर अग्रसर हुई, तो मैं भी एक पल गवांए बगैर उसके पीछे खड़ा हो गया क्योंकि एक सेकंड की देरी का मतलब था कि उसके और मेरे बीच में किसी और का आकर खड़े हो जाना।

अब वह गौरी-चिट्टी विदेशन ठीक मेरे आगे लाइन खड़ी थी। मैं सोचने लगा कि अब कैसे उसका ध्यान अपनी तरफ आकर्षित कर उससे दोस्ती का सिलसिला शुरु करूँ। लेकिन उसका ध्यान तो आगे की तरफ था, वह पीछे पलट कर नहीं देख रही थी।

लगभग दस मिनट के बाद ऐसे ही लाईन आगे खिसकी तो मैंने अपनी सामान वाली ट्राली से उसे हल्की सी टक्कर मार दी। तो उसने पलट कर पीछे देखा तो मैंने उससे माफी मांग कर कहा- आपको चोट तो नहीं आई? यह सब मेरी गलती से हुआ है।

उसने भी कहा- नहीं, कोई बात नहीं ! मुझे चोट नहीं लगी है !

उसके बाद मैंने उससे कहा- आप मेरे सामान का ध्यान रखना, मैं इमिग्रेशन के फार्म लेकर आता हूँ, क्या मैं एक फार्म आपके लिये भी एक ले आऊँ?

तो उसके हाँ करने पर उसके लिये भी एक फार्म लेकर आ गया। अब उसके पास लिखने के लिये पैन नहीं था अतः मैंने उसका यात्रा विवरण उससे पूछकर इमिग्रेशन फार्म में भरा तो पता चला कि उसका नाम क्रिस्टीना है, वह फ्रेन्च है और वह नई दिल्ली से इस्तन्बुल होकर पेरिस जा रही है।

फार्म भरने के दौरान मेरी उससे थोड़ी जान-पहचान तो हो ही चली थी कि इतने में उसका नम्बर आ गया था। जब तक उसको बोर्डिंग-पास इश्यु हुआ, तब तक मैं यही खैर मनाता रहा कि उसके पास की सीट खाली हो।

जैसे ही मेरा नम्बर आया तो टिकट काउंटर पर खडी आफिसर से मैंने कहा- कृपया मेरी सीट क्रिस्टीना के पास वाली ही देना !

तो उसने पूछा- क्या आप साथ में हो ?

तो मैंने कहा- हाँ !

उसने भी ज्यादा पूछ्ताछ नहीं की क्योंकि शायद उसने हम दोनों को बात करते हुए देख लिया था। मुझे यह तो पता चल गया कि क्रिस्टीना की सीट खिड़की वाली है और मेरी उसके पास बीच वाली। अब समस्या मात्र कार्नर में गली वाली सीट के यात्री की थी। मैंने सोचा- अब यहाँ तक ठीक हुआ है, शायद आगे भी अच्छा ही होगा।

अब प्रफुल्लित मन से अपना सामान जमा करा कर व बोर्डिंग पास लेकर क्रिस्टीना को ढूंढने दौड़ा। हालांकि मुझे पता था कि वह कहीं नहीं जा रही, आखिरकार उसे मेरे पास ही तो बैठना है, लेकिन मेरा बावरा मन एक भी पल नहीं गंवाना चाहता था। मुझे वह आगे ही खड़ी मिल गई, वह इमिग्रेशन काउंटर ढूंढ रही थी कि मुझे देखकर खुश होती हुई बोली- अब किधर से आगे जाना है?

मैंने कहा- चलो मेरे साथ !

हम फिर इमिग्रेशन लाइन में खड़े हो गये, मात्र पाँच मिनट में ही हम अपने पासपोर्ट पर ठप्पा लगवाकर, फिर अपनी सेक्योरिटी चेकिंग के बाद अंदर हो गये। अब भी हमारे पास एक घण्टा और बाकी था। मैंने उसे काफी की पेशकश की तो उसने भी खुशी से स्वीकार कर लिया क्योंकि रात के तीन बज चुके थे और थकान हो चली थी।

अब हम लाउंज के अन्दर बने एक काफी हाउस में बैठे थे। क्रिस्टीना ने अपने बारे में बताया कि वह एक आर्टिस्ट है, पेन्टिंग बनाती है और पेरिस में रहती है। वह अभी मात्र तीन दिन पहले ही दिल्ली आई थी। यह उसकी भारत की पहली यात्रा थी। वह एक दिल्ली में लगी अन्तर्राष्ट्रीय प्रदर्शनी में फ्रान्स का प्रतिनिधित्व करने के लिये आई थी। कल वह इस्तन्बुल पहुंचने के बाद पेरिस के लिये अगली फ्लाईट लेकर चली जायेगी। उसे दुख था कि वह दिल्ली के अलावा भारत में कोई अन्य शहर नहीं घूम पाई। उसकी ताजमहल देखने की बहुत इच्छा थी।

काफी पीते-पीते हमारी अच्छी दोस्ती हो चुकी थी। मैं क्रिस्टीना के फीगर के बारे में आपको बताना ही भूल गया। वह इतनी खूबसूरत थी जैसे कोई माडल हो, उम्र लगभग तीस वर्ष, एकदम संगमरमरी गौरी चमड़ी, जैसे नाखून गड़ा दो तो खून टपक जायेगा, ब्लांड (सर पर गोल्डन कलर के लम्बे बाल), अप्सराओं जैसा अत्यन्त खूबसूरत चेहरा, बड़ी-बड़ी नीली आँखें जिनमें डूबने को दिल चाहे, तीखी नाक, धनुषाकार सुर्ख गुलाबी रंगत लिये हुए होंठ, अत्यन्त मनमोहक मुस्कान जो सामने वाले को गुलाम बना दे, लम्बाई लगभग पांच फीट छह इंच, टाईट जींस, लो कट टाप जिसमें वक्षरेखा साफ दिख रही थी। ऊपर से एक हल्की ऊनी जर्सी क्योंकि सर्दियों के दिन थे।

ओह क्षमा करें, मैं खास बात तो बताना ही भूल गया कि उसके स्तन 34, कमर 26 और गाण्ड 36 ईंची थी। इन सब बातों का सारांश यह निकलता था कि उसे पहली बार देखने पर किसी भी साधु सन्यासी का लण्ड भी दनदनाता हुआ खड़ा होकर फुंफकारे मारने लगे। सोने पर सुहागा यह कि वह एक शानदार जिस्म की मालिक होने के साथ साथ ईटेलिजेंट भी थी क्योंकि उसका सामान्य ज्ञान भी बहुत अच्छा था।

अब काफी पीने के बाद वायुयान में जाने के लिए निर्धारित गेट की ओर चले, तभी रास्ते में एक बुक-शॉप देखी तो मेरे दिमाग में एक विचार आया। मैंने क्रिस्टीना से कहा- तुम्हारे जैसी कलाकार जब भारत आई है तो मैं अपने देश की तरफ से तुम्हें एक उपहार देना चाहता हूँ।

तो उसने पूछा- क्या दोगे?

तो मैंने कहा- अब तुम कलाकार हो तो निश्चित रूप से तुम्हें उसी प्रकार का उपहार ही दूंगा।

फिर उसे लेकर मैं बुक-शॉप में घुसा और पेंटिंग की कुछ किताबें देखी, लेकिन मेरा मन तो उसे वात्स्यायन की विश्व प्रसिद्ध कामसूत्र की पुस्तक देने का था। फिर मैंने कामसूत्र पर आधारित दो-तीन किताबें छांटी और उसे दिखाई कि क्रिस्टीना, यह भी विश्व प्रसिद्ध हैं, क्या तुम इसके बारे में जानती हो?

तो वह नाम देखकर चहुंकी और बोली- हाँ, मैंने इसका नाम सुना है पर कभी पढ़ी नहीं हैं और मैं इसे लेना पसंद करूंगी।

आखिरकार मैं भी तो यही चाहता था। मैंने 2800 रुपये देकर पुस्तक खरीद ली। हालांकि विदेशी लोग थोड़े उन्मुक्त होते ही है और क्रिस्टीना तो एक कलाकार भी थी, अतः मैं कोई गलतफहमी नहीं पाल सकता था कि वह पट गई है। हाँ इसकी जगह कोई देशी लड़की होती और उसे अगर मैंने कामसूत्र की किताब दी होती तो शायद दूसरी बात होती। उसके इस प्रकार के उपहार को स्वीकार करने का मतलब ही यही होता कि वह मेरे साथ बिस्तर पर लेटने को तैयार है।

अब यान में प्रवेश करने का समय भी हो चला था तो हम अपने निर्धारित गेट तक आ पहुँचे।

तब क्रिस्टीना ने पूछा- आपकी सीट नम्बर क्या है?

क्योंकि मैंने उसे यह नहीं बताया था कि हम दोनों की सीट आसपास है।

मैंने दोनों के बोर्डिंग पास मिलाकर चेक करने का नाटक किया और बताया कि हम दोनो साथ साथ ही बैठेंगे तो उसने खुशी जाहिर की। थोडी देर बाद हम वायुयान के अंदर थे। हमारी सीट यान के पिछले हिस्से में थी। बोईंग यान की एक लाइन में कुल दस सीटें थी, दोनों तरफ खिड़कियों की तरफ तीन-तीन व बीच में चार सीट थी। अब सबसे पहले खिड़की की तरफ क्रिस्टीना बैठी, फिर उसके पास वाली सीट पर मैं, व मेरे बाईं तरफ की फिर गलियारे वाली सीट के अलावा बीच वाली चारों सीटें भी खाली ही पड़ी थी। सिर्फ उस पार खिड़की की तरफ एक बुजुर्ग दम्पत्ति बैठे थे। उस दिन भीड़ कम थी। अब तक तो सब कुछ मेरे हिसाब से ही हो रहा था।

अब तक सुबह के चार बज चुके थे और उड़ान शुरु हुई। कुछ ही मिनटों में दिल्ली की लाईटें ओझल हो गई। क्रिस्टीना बातूनी किस्म की लड़की थी, अतः मुझे उसके साथ दोस्ती करने के लिये बहुत मेहनत नहीं करनी पड़ी। मैंने सोचा कि बातें करते करते तो अभी समय निकल जायेगा और मैं हाथ मलता रह जाउंगा। तो मैंने फिर उसे कामसूत्र की याद दिलाई कि यह वात्स्यायन द्वारा करीब दो हजार वर्ष पहले लिखी गई थी और यह पेंटिंग तकरीबन पिछले 400 से 600 वर्षों के दौरान बनाई गई थी। इतना कहते ही उसके अंदर का कलाकार जाग उठा और उसने कामसूत्र की किताब का पैकेट खोल लिया। चून्कि कामशास्त्र मेरा पढ़ा हुआ था, अतः उसे समझाने में कोई विशेष परेशानी नहीं हुई। वह बड़ी रुचि से सुनती रही और पेटिंग भी देखती रही।

हालांकि कामशास्त्र के बारे में लोगों को गलतफहमी है कि यह पूरी किताब ही स्त्री-पुरुष सम्भोग के बारे में लिखी हुई है। उसमें ज्यादातर पाठ तो मानव-जीवन व सामाजिक व्यवहार के बारे में लिखे हुए है। इसमें मात्र एक पाठ ही सम्भोग कला और विभिन्न आसनों के बारे में है।

तो यान में मेरी कामशास्त्र की क्लास चल रही थी। इसी दौरान मैंने हम दोनो की सीटों के बीच लगा हुआ हत्था (आर्म रेस्ट) खड़ा कर कमर वाले हिस्से की तरफ चिपका दिया ताकि हम दोनों के बीच की दूरी खत्म हो जाये। अब थोड़ी ही देर में बातचीत करते हुए वह इतनी नजदीक आ चुकी थी कि होले-होले उसका जिस्म मुझे छूने लगा था। एक तरफ तो कामसूत्र की सम्भोग करती हुई पेंटिंग्स और दूसरी तरफ उसके गोरे जिस्म का स्पर्श ! मेरा लण्ड तो बिलकुल नब्बे डिग्री पर खड़ा होने लग गया पर मैं बहुत सम्भल कर बैठा था कि कहीं मेरी किसी छोटी गलती से वह नाराज ना हो जाए।

तब तक यान लगभग 35000 फीट की ऊँचाई तक पहुँच चुका था। फिर खूबसूरत तुर्की परिचारिकाओं ने लज़ीज़ खाना परोसा।

खाना खाने के बाद परिचारिका सबको औढ़ने के लिये कम्बल जैसी मोटी शाल दे कर चली गई। अब तक लोगबाग एक मूवी देख चुके थे, अतः थक कर धीरे धीरे अंदर की लाईटे बंद होने लगी, क्योंकि यात्री रात भर के जगे होने के कारण थके हुए थे। फिर एक दम अंधेरा हो गया. अब क्रिस्टीना ने भी शाल निकाली और ओढ़ कर बैठ गई और मुझसे बोली- अब नींद आ रही है, मैं थोड़ी देर झपकी लूंगी।

मैंने जी.पी.एस. मॉनीटर पर देखा कि हमारा विमान अफगानिस्तान की पहाड़ियाँ लांघ कर ईरान की सीमा में प्रवेश कर रहा था और विमान के इस्तंबुल पहुँचने में पांच घंटे का समय था। मैंने भी उसे गुड नाईट कहा, हालांकि मेरी इच्छा थी कि हम बैठे बैठे बातें करते रहें क्योंकि पता नहीं यह समय बाद में वापिस आयेगा या नहीं। मैं तो सिर्फ नाश्ते-पानी की सोच रहा था, लेकिन कहते हैं कि ऊपरवाला किसी को भूखा नहीं सुलाता है, ठीक उसी प्रकार उसने मेरे लिये 36 पकवान लगी हुई थाली का इन्तज़ाम कर रखा है तो निश्चित रुप से जमीन से 36000 फ़ीट की ऊँचाई पर तो ऊपर वाला याद आयेगा ही।

अब विमान में लगभग सम्पूर्ण अंधेरा था क्योंकि विमान के भीतर की बत्तियाँ बंद थी, दूसरी और विमान-परिचारिका आकर खिड़की भी बन्द कर गई थी। हालांकि बाहर अभी भी अंधेरा था क्योंकि जैसे जैसे हम पश्चिम की ओर जा रहे थे, तो हमें अंधेरा ही मिल रहा था, क्योंकि भारत में सूर्य पहले उगता है और पश्चिम में बाद में। कुल मिलाकर विमान में एकदम सन्नाटा छाया था, कहीं कहीं से खर्राटे की आवाज आ रही थी।

अब चूंकि मैंने सीतों के बीच का हत्था हटा दिया था, अतः हम दोनों के बीच कोई दूरी नहीं थी। थोड़ी ही देर में क्रिस्टीना नींद में झोंके खाती हुई मेरे दाहिने कन्धे पर सिर टिका कर सो गई, उसकी जांघें पहले से ही मेरी जांघों से सटी हुई थीं। हमारी सीट के सामने लगा हुआ जी. पी. एस. सिस्टम बता रहा था की बाहर का तापमान -05 डिग्री है, लेकिन मेरे अंदर तो भयानक आग लगी हुई थी, लग रहा था कि उस वक्त मेरे भीतर का तापमान हज़ार डिग्री से भी अधिक होगा। मेरा दिल बहुत तेज गति से धड़क रहा था, मुझे लग रहा था कि इसकी धड़कन की आवाज पूरे विमान में गूँज रही हो। अब मैंने सीट के सामने लगे छोटे से टीवी पर चल रही इंगलिश मूवी भी बन्द कर दी क्योंकि उससे भी हल्का प्रकाश आ रहा था।

अब क्रिस्टीना का सिर मेरे कंधे से फिसलने लगा, मैंने अपने हाथ का सहारा देकर उसे रोकने की सोची पर यह डर लगा कि कही इसकी नींद खुल गई तो हो सकता वह मेरे कन्धे से अपना सिर हटाकर दूसरी ओर खिड़की की तरफ नहीं कर ले, तो यात्रा का सारा मजा ख्रराब हो जायेगा।

अब मुझे लगा कि यदि मैंने क्रिस्टीना के सिर को नहीं सम्भाला तो उसकी नींद खुल आयेगी।

मैंने होले से अपने दाहिने कन्धे से उसका सिर मेरे सीने की तरफ लुढ़कने दिया और उसे अपने बायें हाथ के सहारे से बहुत धीरे धीरे से नीचे अपनी गोद की ओर ले आने लगा। इसी दरम्यान एक बार मैंने उसके कान में हल्के से बोला- क्रिस्टीना, यदि नींद आ रही हो तो आराम से सो जाओ !

तो वह कुनमुना कर बोली- मुझे बहुत नींद आ रही है, सोने दो।

अब मैंने अपनी बाईं तरफ की गलियारे की तरफ की सीट का हत्था भी ऊपर उठा कर सीट की बैक से मिला दिया। इस प्रकार अब मैंने तीनों सीटों को मिलाकर एक लम्बी सीट बना ली। अब मैं धीरे धीरे अपनी बाईं सीट की तरफ खिसक आया और अपने साथ क्रिस्टीना को भी आहिस्ता से अपने साथ ले आया। अब मैं सबसे बाई सीट पर बैठा था और क्रिस्टीना गहरी नींद में आराम से तीनों सीतों पर लेटी हुई थी क्योंकि उसका सिर अब मेरी गोद में था। इतना आहिस्ता आहिस्ता करने में मुझे लगभग 15 मिनट का वक्त लग गया क्योंकि मैं नहीं चाहता था कि उसकी नींद में कोई खलल पड़े और वह उठ कर बैठ जाये।

अब मैं खुश था कि एक विदेशन सुन्दरी मेरी गोद में लेटी हुई है। अब उसका सिर मेरे लण्ड पर टिका हुआ था तो मुझे ऐसा लग रहा था कि उसकी हालत ठीक वैसी ही होगी जैसे की महाभारत युद्ध में बाणों की शैया पर लेटे हुए भीष्म की हुई होगी। मुझे लग रहा था कि मेरा खड़ा लण्ड उसके सिर में बिल्कुल बाण की तरह चुभ रहा होगा। एक बार देखने में तो ऐसा लग रहा थी कि वह गहरी नींद में होगी। अब लगभग पांच मिनट का इन्तजार करने के बाद मैंने अपना दायां हाथ इस प्रकार से उसके पेट की ओर रखा कि जैसे किसी छोटे बच्चे को सीट से नीचे नहीं गिर आये तो सम्भालने के लिये रखना पड़ता है।

अब थोड़ी देर तक मैंने नज़र रखी कि क्रिस्टीना ने कोई हलचल नहीं की तो मैंने अपना हाथ आहिस्ता से उसके उन्नत-शिखरों की ओर खिसका दिया। अब मेरी बाहें उसके स्तन के निचले हिस्से को छूने लगी। मेरी हालत तो बिल्कुल मेरे बस में नहीं थी, हर क्षण मैं यही कोशिश कर रहा था कि कही मैं पागल होकर उस पर टूट नहीं पडूँ। पर मैंने अपना होश नहीं खोया।

आगे क्या हुआ, दूसरे भाग में पढ़ें !

Quote
Posted : 16/02/2011 6:18 am
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

अब मैं खुश था कि एक विदेशन सुन्दरी मेरी गोद में लेटी हुई है। अब उसका सिर मेरे लण्ड पर टिका हुआ था तो मुझे ऐसा लग रहा था कि उसकी हालत ठीक वैसी ही होगी जैसे की महाभारत युद्ध में बाणों की शैया पर लेटे हुए भीष्म की हुई होगी। मुझे लग रहा था कि मेरा खड़ा लण्ड उसके सिर में बिल्कुल बाण की तरह चुभ रहा होगा। एक बार देखने में तो ऐसा लग रहा थी कि वह गहरी नींद में होगी। अब लगभग पांच मिनट का इन्तजार करने के बाद मैंने अपना दायां हाथ इस प्रकार से उसके पेट की ओर रखा कि जैसे किसी छोटे बच्चे को सीट से नीचे नहीं गिर आये तो सम्भालने के लिये रखना पड़ता है।

अब थोड़ी देर तक मैंने नज़र रखी कि क्रिस्टीना ने कोई हलचल नहीं की तो मैंने अपना हाथ आहिस्ता से उसके उन्नत-शिखरों की ओर खिसका दिया। अब मेरी बाहें उसके स्तन के निचले हिस्से को छूने लगी। मेरी हालत तो बिल्कुल मेरे बस में नहीं थी, हर क्षण मैं यही कोशिश कर रहा था कि कही मैं पागल होकर उस पर टूट नहीं पडूँ। पर मैंने अपना होश नहीं खोया।

अब कुछ समय रुक कर मैंने अपना बायां हाथ उसके उन्नत स्तन पर आहिस्ता से रख दिया कि मेरी भुजाएँ उसके दोनों स्तनों को छू कर निकलें और मेरे हाथ का पंजा उसके स्तनों के पार, जैसे मैंने उसे सीट से गिरने से बचाने के लिये ऐसा किया हो, रख दिया। फिर कुछ देर इन्तजार कर अपना दायां हाथ उसकी चूत के ऊपर उसी प्रकार रख दिया। उसने कोई हलचल नहीं की।ऐसा लग रहा था कि वह गहरी नींद में है। अब बिल्कुल हौले हौले से मैंने अपने बांए हाथ का दबाव उसके स्तनों पर बढ़ाना शुरु कर दिया। अब तो मुझे मेरे हाथ व उसके स्तनों के बीच आ रही शाल बहुत खटकने लगी। अब मैंने भी अपनी शाल निकालकर अपने शरीर पर इस प्रकार डाल ली कि मेरे दोनों हाथ उसमें छुप जायें। अब मैंने अपना हाथ आहिस्ता से उसकी शाल में घुसा कर फिर से उसके स्तनों पर रख दिया। उसने सोते समय अपनी ऊनी जर्सी निकाल दी थी।

अब मेरे पंजे और उसके स्तनों के बीच मात्र एक टॉप ही था। अब मैंने उसके लो कट टाप के गले के अंदर हाथ डाला तो मेरा पहला स्पर्श उसकी सिल्की ब्रा का हुआ, पर इससे तो मुझे सन्तुष्टि नहीं हुई। फिर मैंने आहिस्ता से अपना हाथ उसकी स्तनों के बीच की घाटी में प्रविष्ट करा दिया और आहिस्ता आहिस्ता उसके दोनों स्तनों पर अपने हाथ घुमाने लगा। मैं उसकी दूध की दोनों टोंटियो से खेलने लगा।

अब मेरे दिमाग ने काम करना बिल्कुल बंद कर दिया। मैं बिल्कुल कामातुर हो चुका था, मैं यह भूल चुका था कि यदि क्रिस्टीना ने जागकर शोर मचा दिया तो पता नहीं किस देश की जेल में सजा काटनी पड़ेगी।

इतना करने के बाद मुझे लगा कि क्रिस्टीना सोने का नाटक कर रही है क्योंकि मेरी ऐसी उत्तेजित करने वाली हरकत के बाद वह सो नहीं सकती थी, किन्तु अब मेरे पास जानने का कोई साधन नहीं था कि वह क्या सोच रही है। मैं तो उसके मौन को ही सहमति मान कर अपने हाथों को लगातार व्यस्त रखे हुए था। मुझे उसके स्तनों तक पहुँचने तक लगभग आधा घण्टा लगा होगा। हमारे इस्तन्बुल पहुँचने में करीब साढ़े चार घण्टे बाकी थे, किन्तु मेरे पास ढाई घण्टे ही बाकी थे क्योंकि गन्तव्य पर पहुँचने के पहले सभी यात्रियों को एक बार सुबह का नाश्ता दिया जाना था।

अब मैं क्रिस्टीना के स्तनों के साथ उसकी चूत को भी मसलना चाहता था। मैंने आहिस्ता से से उसकी टाइट जीन्स का बटन व चेन खोल कर उसकी मखमली पैंटी पर हाथ रख दिया और कोई प्रतिक्रिया न देखकर फिर अंदर चूत को सहलाने के लिये हाथ बढ़ाया तो मेरा हाथ एक छोटी सी कान की बाली जैसे छल्ले से टकराया।

तो क्रिस्टीना जी ने नये चल रहे फैशन के अनुसार अपनी चूत को सजाने के लिये एक बाली पहन रखी थी !

बहुत ही मादक स्पर्श था !

फिर मैंने झांटों की उम्मीद में हाथ नीचे सहलाया, तो मैं नाउम्मीद नहीं हुआ, बिल्कुल छोटी मखमली झांटों को सहलाने का लुत्फ उठाने लगा। अब लगा मेरे दोनों हाथों में जन्नत है, मेरा बायां हाथ तो उसके वक्षों से खेल रहा था और दायां हाथ उसके वस्ति-क्षेत्र का भ्रमण कर रहा था।

अब मुझे यह तो सुनिश्चित हो चुका था कि वह नींद में नहीं है तो मैं हौले से उसके भग्नासा के दाने को सहालाकर उत्तेजित करने की कोशिश करने लगा। पर पट्ठी वह भी आँखें मींचकर पड़ी हुई थी। मैंने सोचा कि अब यह गर्म है तो समय भी तो तेजी खिसका जा रहा है, इसके लिये दूसरा उपाय करना होगा। इधर उसका सिर मेरे लण्ड के ऊपर रखा था तो मेरा लण्ड भी दर्द करने लगा था। अब मैंने अपनी पैंट खोलकर उसमे से लण्ड आजाद कर उसके दायें गाल से सटा दिया, उसमें से चिपचिपाहट भी निकल रही थी जो उसके गाल को छू रही थी। अब दोबारा मैंने अपने दोनों हाथों को व्यस्त रखते हुए उसकी चूत में अपनी उंगली प्रविष्ट कराई तो देखा वहाँ गीला-गीला सा था, मतलब वह गर्म हो चुकी थी। स्तन मर्दन के साथ जैसे ही मैंने उंगली चूत में अंदर-बाहर करनी शुरु की तो क्रिस्टीना छटपटाने लगी और उसने अपनी नींद का नाटक छोड़ा और मेरी तरफ करवट बदलकर मेरे लण्ड पर हाथ फिराने के बाद उसे अपने मुँह में ले लिया। मैं तो अपने होशोहवास खो चुका था, वह भी पागलों की तरह लण्ड मुँह में अंदर-बाहर कर रही थी। उधर मैं भी उसे अपने दोनों हाथों से बराबर उसे उत्तेजित कर रहा था।

मैंने विमान में अपने चारों तरफ देखा, सभी यात्री आराम से सोए हुए थे और सम्पूर्ण अंधेरा था, तो कोई डर नहीं था कि कोई देख लेगा।

हम दोनों किसी भी किस्म की आवाज नहीं निकाल रहे थे क्योंकि कोई भी जाग सकता था।

अब क्रिस्टीना की लगातार मेहनत के कारण दस मिनट में ही मेरा लण्ड स्खलित होने की कगार पर पहुँच गया, तो मैंने उसे हाथ के इशारे से समझाने की कोशिश की पर उसने इस पर ध्यान नहीं दिया। तो मैं भी क्या करता, मैंने भी वीर्य का फव्वारा उसके मुंह में छोड़ दिया। उसने भी हिम्मत दिखाते हुए पूरा का पूरा गटक लिया। अब मैं तो खाली हो गया किन्तु उसकी उत्तेजना शांत नहीं हुई थी, वह मेरे निर्जीव पड़े लण्ड को खड़ा करने की कोशिश करने लगी। मात्र पाँच मिनट में ही हम दोनों सफल हो गये। मेरा लण्ड फिर कड़क होकर फुंफकारने लगा।

अब क्रिस्टीना उठी और अपनी जींस की चेन बन्द करते हुए उसने अपने पीछे आने का इशारा किया। हम वैसे भी विमान के आखिरी हिस्से में बैठे तो, टायलेट वहाँ से नजदीक ही थे। पहले वह अंदर घुसी, फिर उसके दो मिनट बाद मैं भी अंदर पहुंच गया, अंदर जाकर दरवाजा लगा लिया। हम दोनों कामातुर होकर एक दूसरे के गले लग गये, फिर एक दूसरे के शरीर को चूमने-सहलाने लगे। विमान के टायलेट बहुत छोटे होते हैं पर उसी में काम चलाना था।

मैंने उसे पैंट और टॉप से आजाद कराया, अब वह जामुनी रंग के अन्तः वस्त्रों में मेरे सामने खडी थी और इतनी मादक लग रही थी कि उसे शब्दों में बयान करना बहुत मुश्किल था। उस पर उसी रंग से मिलती हुई लिपस्टिक और नेल पालिश ! ऐसा लग रहा था कि मेनका खड़ी हो जो किसी भी विश्वामित्र की तपस्या भंग कर दे।

अब उसने भी देर ना करते हुए मुझे भी नंगा कर दिया। हम दोनों पागलॉ की तरह लिपट गये और एक दूसरे के शरीर को टटोल कर आनंद लेने लग गये।

अब मैंने उसकी चोली खोल दी और पैंटी भी उतार दी, उसके तन व मेरे बीच में कोई नहीं था। मैं अब लेट्रीन सीट का ढक्कन लगा कर बैठ गया, वह मेरी गोद में दोनों टांगे बाहर की ओर निकालकर इस प्रकार बैठ गई कि उसकी चूत मेरे लण्ड को स्पर्श करने लगी।

फिर हौले-हौले शुरु हुआ दुनिया का सबसा पहला खेल, जिसे पलंग-पोलो के नाम से भी जाना जाता है। पर आज हम दोनों ने उसे टायलेट-पोलो के नाम से जमीन से लगभग 35000 फीट की ऊंचाई पर खेलना शुरु कर दिया था। वह मेरे सीने से लग कर बैठी थी, नीचे चुदाई चालू थी, वह भी हिलकर अपने शरीर को ऊपर नीचे होकर पूर्ण सहयोग कर रही थी। फिर मैं बारी बारी से उसको दोनों स्तनों पर अपनी जीभ फिराने लगा। उसके बाद मैंने उसकी गर्दन की दोनों तरफ कामुकता बढ़ाने वाली नस के साथ उसके कान की लोम व आँखों की भोहों पर भी अपनी जीभ फिराई। वह मदमस्त होकर पागल हो उठी। दोनों की सांसें एक दूसरे में विलीन हो रही थी। यदि हम किसी कमरे में होते तो पागलपन में न जाने कितनी आवाजें निकालते। पर जगह और समय का ध्यान रखते हुए बिल्कुल खामोश रहने की कोशिश करते रहे।

अब इस मदहोश करने वाली अनवरत चुदाई को लगभग आधा घण्टा हो चुका था। अब एक ही आसन में चोदते हुए थकान होने लगी थी। तभी क्रिस्टीना ने अपनी गति बढ़ा दी और कुछ ही क्षण में हांफते हुए वह चरमसीमा पर पहुँच गई। फिर वह पस्त होकर मेरी बाहों में थक कर लेट गई।

मैं तो अभी तक भरा बैठा था, मैंने कुछ समय रुककर इशारा किया कि अब मैं भी पिचकारी छोड़ना चाहता हूँ तो उसने कहा- रुको !

वह मेरी गोद में से खड़ी हुई और बेसिन पर हाथ और सिर झुकाकर खड़ी हो गई। मैंने भी पीछे से उसकी चूत में लण्ड पेल दिया और अपने दोनों हाथों से उसके उन्न्त स्तनों को मसलते हुए उसे चोदने लगा। फिर जन्नत की यात्रा शुरु हुई। फिर मदमस्त होकर वह भी आगे पीछे होकर मुझे सहयोग देने लगी। हम दोनों ने अपनी गति और बढ़ा दी और लगभग दस मिनट बाद मेरी पिचकारी छुट गई, हम दोनों पस्त हो गये।

मैंने घड़ी देखी, हमें टायलेट में घुसे अब लगभग पौन घण्टा हो चुका था, मैंने उसे इशारा किया कि अब हमें जल्दी बाहर निकलना चाहिये।

पहले मैं बाहर निकला और वह कुछ समय रुक कर सफाई कर अपनी सीट पर आ गई।

भगवान का लाख-लाख शुक्र था कि सब अभी तक सोए हुए थे और किसी को भी इस चुदाई के बारे में शक नहीं हुआ। क्रिस्टीना मुझसे चिपक कर लेट गई। पूर्ण सन्नाटा होने के कारण हम मुँह से कोई शब्द नहीं निकाल पा रहे थे किन्तु उसके होंठ मेरे होंठों से मिलकर को बहुत कुछ कह रहे थे।

मैंने अपनी जिंदगी में कई लड़कियों से सम्भोग किया लेकिन क्रिस्टीना के साथ इस अभूतपूर्व आनन्द का अनुभव शब्दो में लिखना बहुत मुश्किल है।

अब हमारे गंतव्य स्थल पर पहुँचने में लगभग डेढ घण्टा बाकी था। विमान की बत्तियाँ जलना शुरु हो चुकी थी, यात्री जाग चुके थे, परिचारिकाएँ ने नाश्ता देने लगी थी। ऐसा कतई नहीं लग रहा था कि हम विगत आठ घण्टों से साथ थे, ऐसा लग रह था कि हमें मिले मात्र आठ मिनट ही हुए थे। अंततः वह निष्ठुर क्षण भी आ ही गया जब हमारा विमान इस्तन्बुल के अतातुर्क एयर पोर्ट पर उतर चुका था। मुझे तो यहाँ दो दिन रुक कर फिर बर्लिन जाना था, पर क्रिस्टिना को तो मात्र तीन घंटे बाद की उड़ान से पेरिस जाना था। हम दोनों एक दूसरे का हाथ पकड़े विमान से उतरे। हम दोनों ने निश्चय किया कि अभी मैं अपनी होटल नहीं जाकर कुछ वक्त और क्रिस्टीना के साथ एयरपोर्ट पर बिताउंगा, फिर उसकी उड़ान के समय उसे गुडबाय कह कर ही जाऊंगा। एअरपोर्ट पर ही बने एक रेस्टोरेंट में एक दूसरे के हाथ में हाथ डाले निस्तेज चुपचाप बैठे रहे। हम दोनों में से कोई भी बिछुड़ने के लिये तैयार नहीं था।

इस घटना को लगभग तीन वर्ष बीत चुके हैं लेकिन यह घटना मेरे मन-मस्तिष्क पर एक चलचित्र की तरह स्पष्ट अंकित है। हालांकि क्रिस्टीना ने उस दिन अंतिम समय पर अपना निर्णय बदला और वह दो दिन मेरे साथ इस्तन्बुल में ही रुकी और फिर उसके पास मैं अगले साल पेरिस भी गया। वह आज भी मेरी बहुत अच्छी दोस्त है। क्रिस्टीना ने मुझे बॉडी-मसाज सिखलाई और बदले में मैंने उसे और उसके मित्रों को योग और सम्भोग (कामशास्त्र) की क्लास लगाकर विभिन्न आसन सिखलाये। वह भी एक अद्वितीय अनुभव था।मैं आपके पत्र का इन्तजार करुंगा, कृपया मुझे यह बतलाने का कष्ट करें कि मेरे जीवन का यह अनोखा अनुभव आपको कैसा लगा। कृपया मुझसे vikky0099@gmail.com पर मेल कर बतलाएँ ताकि मेरी हिम्मत अपने अगले संस्मरण लिखने की हो।

हाँ, एक बात और- इस वर्ष क्रिस्टीना की भारत आने की योजना है। चूंकि वह एक बहुत अच्छी कलाकार है तो वह कामसूत्र को माडर्न जमाने के हिसाब लिख कर उसके लिये सभी आसनों की पेंटिंग बनाना चाहती है। हमने इस हेतु हिमालय पर जाने का विचार किया है ताकि हिमालय की खूबसूरत वादियों में इस कार्य को किया जा सके। इसके लिये हमें एक महिला साथी की भी जरूरत होगी।

ReplyQuote
Posted : 16/02/2011 6:18 am